प्रशंसक

गूगल अनुसरणकर्ता

शुक्रवार, 30 दिसंबर 2016

Welcome 2017 "आज कोई नवगीत लिखूँ............"


मन कहता इस नववर्ष पर, आज कोई नवबात लिखूँ
भूल के सारे द्वेष सभी से, अपने मन का राग लिखूँ

बीते समय की सात तहों में, कुछ खट्टे कुछ मीठे पल हैं
जिन लम्हों में रोये हँसे, चाहे अनचाहे स्मरणीय कल हैं
सोच रही यादों के वन से, चुनचुन कर उल्लास लिखूँ
भूल के सारे द्वेष सभी से, अपने मन का राग लिखूँ

बदल रहे है लोग अगर तो, इसको सहज स्वीकार करो
निज में बिन कटुता लाये, उन सबका भी आभार करो
भाव जो अलिखित रहे, उनका शब्दों से सत्कार लिखूँ
भूल के सारे द्वेष सभी से, अपने मन का राग लिखूँ

आशा और निराशा साथी, दोनो ही गति अपने मन की
धूप छाँव के खेल खेलती, चंचल बदली हमसे जीवन की
मन की पीडा को कलम बना, औरो की मुस्कान लिखूँ
भूल के सारे द्वेष सभी से, अपने मन का राग लिखूँ

मन कहता इस नववर्ष पर आज कोई नवगीत लिखूँ
भूल के सारे द्वेष सभी से, अपने मन का राग लिखूँ

सोमवार, 5 दिसंबर 2016

कब अच्छा लगता है














घर आंगन छोड के जाना, कब अच्छा लगता है
आँखों से आँसू छलकाना, कब अच्छा लगता है

रोटी की मजबूरी, अक्सर छुडवा देती अपना देश
पराये देश में व्यापार फैलाना कब अच्छा लगता है

माँ के हाथों की खाये बिना, बस पेट ही भरता है
ऑडर देकर सीमित खाना, कब अच्छा लगता है

बेजान रंगी्न शहरों में, फ्रैंडशिप तो मिल जाती है
गली मुहल्ले के यार छोडना, कब अच्छा लगता है

आँख मिचौली, गिल्ली डंडे, सब राह ताकते देहरी पे
खेलों का वीडियो गेम हो जाना, कब अच्छा लगता है

फीके स्वाद सेवइयो के और , बेनूर दीवाली होती है
दूर अपनो से त्योहार मनाना, कब अच्छा लगता है

बेफिक्र ठ्हाके लगते थे, छत पर गर्मी की रातों में
अदब से नाप कर मुस्कराना, कब अच्छा लगता है

नरम बिस्तरों में छुपकर, बचपन सिसक कर रोता है
नन्हे छुटकू को साहब हो जाना, कब अच्छा लगता है

चाचा चौधरी, बिल्लू पिकीं से बनती थी अपनी दुनिया
आप अपनी दुनिया बिखरा देना कब अच्छा लगता है




GreenEarth