प्रशंसक

गूगल अनुसरणकर्ता

सोमवार, 3 मई 2010

जीवन से परे





ना कल तुम थे हमको समझे
ना कभी हमे अपना पाये
मेरे जाने के बाद मगर क्यों
अपनी आँखो में पानी लाये
जब तक रहे हम दुनिया में
हर पल हमको दर्द दिया
कभी ना सोचा आखिर क्यों
मुझसे मेरा सुख चैन लिया
तो आज भला क्यों याद मुझे कर
मुझको यादों में लाते हो
जीते जी हर पल मारा फिर क्यों
अब फिर से मुझको बुलाते हो
लोग नही रह पाते जग में
बस रह जाती है कुछ बातें
जो कभी नही मिट पाती हैं
वो होती हैं मीठी यादें
तेरे रोने से नही मिलेगी
मुक्ति मेरे भटके मन को
भले ही अब तू खाक बना दे
अपने माटी के इस तन को
पल पल में ही आ जाता है
जीवन का इक अन्तिम कल
और फिर हम हैं सोचते रहते
काश मिल जाते और दो पल
सुन लेते हम उनके मन की
और अपने मन की कह लेते
अपनी सारी खताओं की
उनसे माफी तो ले लेते
याद करो जब हमने तुमको
रो रो करके पुकारा था
बेबस और लाचार से थे हम
और वो वक्त तुम्हारा था
आज समय ने फिर से देखो
अपनी करवट बदली है
बुला रहे तुम रो कर हमको
और हमने नजरें फेरी है
पर अब क्या जो तुमने दिया था
वो सब तुमको लौटाया है
अब सोचो तुम बैठे बैठे
क्या खोया क्या पाया है
जग में है इन्सान वही
जो जीते हुये की कद्र करे
अपनी खातिर ही जिये ना जीवन
कुछ औरों की भी फिक्र करे

kyon ki: माँ

kyon ki: माँ

kyon ki: श्रद्रांजलि

kyon ki: श्रद्रांजलि
GreenEarth