प्रशंसक

गूगल अनुसरणकर्ता

सोमवार, 10 अक्तूबर 2011

अह्सास की आवाज


दो घडी गुजारी थी मोहब्बत में कभी ,

बैचैन हुआ था ये दिल भी कभी,
 
अह्सासों के आगोश में हम भी खोये थे कभी,

जिन्दगी खूबसूरत सी लगी थी कभी,

वक्त को थमते देखा था कभी,

जमीं आसमां मे मिलते नजर आयी थी कभी,

तपती धूप भी भली लगी थी कभी,

इन होठों पे मुस्कान खिली थी कभी,

दुआओं के लिये हाथ उठे थे कभी,

हर रंग में इश्क बसा लगता था कभी

तनहाई भी ना तन्हा लगती थी कभी

इक नाम ही जुबां पे रहता था कभी

सब कुछ वैसा ही तो है आज भी मगर

तेरे होने ना होने का फर्क साफ नजर आता है

कहती नही किसी से , और कहूँ भी तो क्यों

जब तेरे सिवा कौन मुझको समझ पाता है

धूप की तपिश आज भी महसूस नही होती

हर रंग में तेरा प्यार नजर आता है

वक्त वही थम गया सा लगता है

तेरे अह्सास में ही दिल खोया रहता है

लोग कहते है दुनिया हर पल बदलती रहती है

मुझे तो कुछ भी बदला नजर नही आता

कल भी तुम ही रहते थे निगाहों में मेरी

आज भी नजरों को सिर्फ तू ही नजर आता है
सिर्फ तू ही नजर आता है ..................




23 टिप्‍पणियां:

  1. अह्सासों के आगोश में हम भी खोये थे कभी,
    जिन्दगी खूबसूरत सी लगी थी कभी,
    वक्त को थमते देखा था कभी,
    जमीं आसमां मे मिलते नजर आयी थी कभी,

    गहरे भावों को अभिव्यक्त किया है आपने इन पंक्तियों में .....!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुति ||
    बहुत-बहुत बधाई ||

    http://dcgpthravikar.blogspot.com/2011/10/blog-post_10.html

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब अपर्णा जी।

    कल 12/10/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बस प्यार मे यही तो होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. लोग कहते है दुनिया हर पल बदलती रहती है
    मुझे तो कुछ भी बदला नजर नही आता
    ऐसा भी होता है कभी कभी
    सुन्दर भाव

    उत्तर देंहटाएं
  6. एहसासात को जैसे महसूस किया और बिलकुल उसी तरह कागज पे उकेर दिया जाये तो उससे एक अन्यास अपनापन सा हो जाता है वो लगभग सभी को छू के गुजर जाता है ....................क्या ये लेखनी की सार्थकता नहीं है?

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति अहसास की |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  9. गहरी अभिव्‍यक्ति।
    सुंदर प्रस्‍तुतिकरण...

    उत्तर देंहटाएं
  10. प्यार की समझ होनी चाहिए, दुनियां में इससे बड़ा कोई नहीं ....
    शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  11. कल भी तुम ही रहते थे निगाहों में मेरी

    आज भी नजरों को सिर्फ तू ही नजर आता है
    सिर्फ तू ही नजर आता है ..................ek pyar ke rahi ka behtarin prem safar...lakshy arjun ki tarah sirf ek hai ..saflta shat prathshat hai..sadar badhayee aaur amantran ke sath

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति
    शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  13. गहन अभिव्‍यक्ति।
    सुंदर प्रस्‍तुतिकरण...शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत खूबसूरत रचना । आपकी रचना ह्दय की गहराईयों छू गयी।


    हरि अटल
    भिलाई, छत्तीसगढ़

    उत्तर देंहटाएं
  15. सब कुछ वैसा ही तो है आज भी मगर
    तेरे होने ना होने का फर्क साफ नजर आता है
    कहती नही किसी से , और कहूँ भी तो क्यों
    जब तेरे सिवा कौन मुझको समझ पाता है

    प्रेम में ऐसा ही एहसास सबको होता है शायद! सुन्दर कविता!

    उत्तर देंहटाएं
  16. कल भी तुम ही रहते थे निगाहों में मेरी

    आज भी नजरों को सिर्फ तू ही नजर आता है
    सिर्फ तू ही नजर आता है ..................

    बहुत खूब प्रस्‍तुति !!

    उत्तर देंहटाएं
  17. अहसासों की तो बात ही निराली है. आपको दीप-पर्व पर अनंत शुभकामनाएं. आप ऐसे ही ब्लागिंग में नित रचनात्मक दीये जलाती रहें !!

    उत्तर देंहटाएं
  18. इश्क एक तरफा हो तो सजा देता है

    इश्क दोनों तरफ हो तो मजा देता है

    इश्क तो सभी करते हैं यारों

    कोइ चुप है तो कोइ बता देता है

    शुक्रिया बयानी के लिए ......

    उत्तर देंहटाएं
  19. इश्क एक तरफा हो तो सजा देता है

    इश्क दोनों तरफ हो तो मजा देता है

    इश्क तो सभी करते हैं यारों

    कोइ चुप है तो कोइ बता देता है

    शुक्रिया बयानी के लिए ......

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth