प्रशंसक

गूगल अनुसरणकर्ता

रविवार, 11 सितंबर 2011

कभी- कभी तन्हाई भी भाती है .........


कभी कभी अकेलेपन का ,साथ भी मन को भाता है ।
तन्हाई में ही तो मन ,दिल की कही सुन पाता है ॥

एकान्त में इक अलग से, सुकून का अनुभव होता है । 
ऐसे में ही तो मन अपनी, अच्छाई बुराई गिन पाता है ॥

कुछ ऐसे पल जब हम, बस खुद के लिये जीते है ।
समझ आता है मन को कि, मेरा मुझसे भी इक नाता है ॥

कितने अनसुलझे रहस्यों की, ग्रन्थियां खुद-ब-खुद खुल जाती है ।
जीवन की नदिया को अक्सर, इक नया आयाम मिल जाता है ॥

उलझे से मन की हर इक, धुंधली धुंध तब छट सी जाती है ।

बीता वक्त चुपके से आ, जीवन का नव-स्वप्न बुन जाता है ॥

कभी कभी अकेलेपन का , साथ भी मन को भाता है ।
तन्हाई में ही तो मन , दिल की कही सुन पाता है ॥

35 टिप्‍पणियां:

  1. कभी कभी अकेलेपन का ,साथ भी मन को भाता है ।
    तन्हाई में ही तो मन , दिल की कही सुन पाता है ॥


    भावनाओं को बहुत सुन्दरता से अभिव्यक्त किया है .....वह यह तन्हाई जो हमें खुद से मिलने का अवसर तो देती है .......आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. तन्हाई का अर्थ है जब हम केवल अपने साथ होते है सुंदर भाव बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. कितने अनसुलझे रहस्यों की,
    ग्रन्थियां खुद-ब-खुद खुल जाती है ||

    बहुत बढ़िया प्रस्तुति ||
    आपको बहुत बहुत बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  4. लगता है जैसे मेरे मन की ही बातों को आपने खूबसूरत शब्द दे दिये हों। बेहद पसंद आई यह कविता।
    ---------
    कल 13/09/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. कभी कभी अकेलेपन का ,साथ भी मन को भाता है ।
    तन्हाई में ही तो मन ,दिल की कही सुन पाता है ॥ बहुत ही खुबसूरत....

    उत्तर देंहटाएं
  6. भावनाओं को बहुत सुन्दरता से अभिव्यक्त किया है|धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  7. समझ आता है तब मन को, की मुझसे मेरा भी एक नाता है ...वाह बहुत ख़ूब ....
    समय मिले तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है।
    http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत खूबसूरत और प्रेम पगी रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  9. बड़ी खूबसूरती से शब्द दिए...सुन्दर भाव..बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  10. बड़ी खूबसूरती से शब्द दिए...सुन्दर भाव..बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाकई ...कभी कभी अकेलापन बहुत अच्छा लगता है !

    उत्तर देंहटाएं
  13. कभी अकेलापन भाता है, बहुत ही सुन्दर पंक्तियाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत ही अच्‍छी रचना ... भावमय करते शब्‍द ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. तन्हाई पर लिखी बहुत सुंदर और अनोखी रचना बहुत बहुत बधाई आपको /अकेलेपन का साथ भी कभी कभी सबको भाता है और अपने अन्दर झाँकने का मोका भी मिल जाता है /



    please visit my blog
    www.prernaargal.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  16. खूबसूरत भावो से ओतप्रोत बहुत सुन्दर भावभिव्यक्ति....बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  17. कभी कभी अकेलेपन का ,साथ भी मन को भाता है ।
    तन्हाई में ही तो मन ,दिल की कही सुन पाता है ॥
    .मनो -विश्लेषण परक रचना ,आत्मा लोचन कराती ,खुद का खुद से संवाद ,मेल मिलाप कराती ...http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/2011/09/blog-post_13.हटमल
    अफवाह फैलाना नहीं है वकील का काम .

    उत्तर देंहटाएं
  18. कभी -कभी अकेलापन बहुत भाता है ......

    उत्तर देंहटाएं
  19. सचमुच... तन्हाई भी भाती है...
    बढ़िया प्रस्तुति....
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत सही कहा आपने...

    एकांत में ही व्यक्ति अपने साथ हो पाता है...और जबतक अपना साथ न हो,व्यक्ति स्वयं को पहचानेगा कैसे....

    बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति.....

    उत्तर देंहटाएं
  21. में और मेरी तन्हाई , अक्सर ये बातें करते हैं ....

    कभी कभी अकेलेपन का ,साथ भी मन को भाता है ।
    तन्हाई में ही तो मन ,दिल की कही सुन पाता है ॥


    एकान्त में इक अलग से, सुकून का अनुभव होता है ।
    ऐसे में ही तो मन अपनी, अच्छाई बुराई गिन पाता है ॥


    कुछ ऐसे पल जब हम, बस खुद के लिये जीते है ।
    समझ आता है मन को कि, मेरा मुझसे भी इक नाता है ॥

    बहुत सुंदर रचना ....

    उत्तर देंहटाएं
  22. तन्हाइयां बहुत कुछ कह जाती हैं तन्हाई में ही अक्सर ...

    उत्तर देंहटाएं
  23. कभी कभी अकेलेपन का , साथ भी मन को भाता है ।
    तन्हाई में ही तो मन , दिल की कही सुन पाता है ॥

    .....बहुत सच कहा है...बहुत ज़रूरी है कभी तन्हाई के स्वर भी सुनना...बहुत सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  24. साढ़े छह सौ कर रहे, चर्चा का अनुसरण |
    सुप्तावस्था में पड़े, कुछ पाठक-उपकरण |

    कुछ पाठक-उपकरण, आइये चर्चा पढ़िए |
    खाली पड़ा स्थान, टिप्पणी अपनी करिए |

    रविकर सच्चे दोस्त, काम आते हैं गाढे |
    आऊँ हर हफ्ते, पड़े दिन साती-साढ़े ||

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  25. अकेलेपन में इंसान खुद के पास होता है..अच्छे से समझने का मौका मिलता है खुद को!!

    उत्तर देंहटाएं
  26. आप सब को विजयदशमी पर्व शुभ एवं मंगलमय हो।

    उत्तर देंहटाएं
  27. अरे बन के निर्मल निर्झर

    इस एकांत शांत प्रान्गड़ में किसे सुउनाते सुमधुर स्वर

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth