प्रशंसक

गूगल अनुसरणकर्ता

शुक्रवार, 2 सितंबर 2011

दिल कहता है...........


दिल कहता है , देश मेरा आजाद होगा एक दिन
हर एक बुराई से
जाति धर्म की लडाई से
दिल कहता है .................

ना होगा कोई छोटा बडा
ना होंगे कुरीतियों के बन्धन
ना होगी आनर किलिंग
ना बिछडेंगें दो व्याकुल मन
दिल कहता है , देश मेरा आजाद होगा एक दिन
नफरत की आग से
खोखले रूढिवाद से
दिल कहता है ...................

सोच मे विस्तार होगा ,
प्रीत का व्यवहार होगा
नष्ट भ्रष्टाचार होगा
खेतों का विस्तार होगा
दिल कहता है , देश मेरा आजाद होगा एक दिन
असंतुलित पर्यावरण से
दहेज के  दूषित आवरण से
दिल कहता है ..........................

सोने की चिडिया फिर से देश होगा
नारी होना ना कोई दोष होगा
जय हिन्दी जय भारत जय जण गन
बस हर तरफ यही उद्घोष होगा
दिल कहता है , देश मेरा आजाद होगा एक दिन
महँगाई के भार से
घर घर होते दुराचार से
दिल कहता है ......................

दिल कहता है , देश मेरा आजाद होगा एक दिन
हर एक बुराई से
जाति धर्म की लडाई से
दिल कहता है .................


21 टिप्‍पणियां:

  1. देश प्रेम के भावों से ओत प्रोत आपकी यह रचना ..एक सुंदर देश और समाज की कल्पना की और ले जाती है , यह संभव भी है लेकिन शर्त सिर्फ इतनी सी है कि हमारी सोच और कर्म बदलना चाहिए .....!

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  3. Happy to see optimistic approach despite numerous problems prevailing in human life.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सोने की चिडिया फिर से देश होगा
    नारी होना ना कोई दोष होगा

    ऐसा ज़रूर होगा।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  5. देश प्रेम से ओत-प्रोत सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंदर सुनहरे विचारों से सजी बेहतरीन कविता...

    भारत माँ के दर्शन करवाने के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  7. दिल कहता है , देश मेरा आजाद होगा एक दिन
    हर एक बुराई से
    जाति धर्म की लडाई से
    दिल कहता है .................आप का दिल सही कहता है येसा जरुर होगा...

    उत्तर देंहटाएं
  8. काश कभी ऐसा हो जाए ... सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  9. देश के लिए ये सपना आपके साथ पुरे देश के लोगो की आखो में पल रहा है...दिल कहता है सच तो होगा...

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह! बहुत सुन्दर भावनाएं....
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर भाव...काश ऐसा हो जाए...बहुत सुन्दर प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  12. दिल कहता है , देश मेरा आजाद होगा एक दिन
    हर एक बुराई से
    जाति धर्म की लडाई से
    दिल कहता है .................
    अगर सबका दिल कुछ ऐसा ही कहने लगे तो वो दिन दूर नहीं दोस्त वो दिन जरूर आएगा ऐसा मेरा दिल भी कहता है |
    बहुत सुन्दर रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  13. मैं बस यही कहूंगी कि..........आमीन !!

    उत्तर देंहटाएं
  14. देश प्रेम के भावों से भरी सुंदर रचना
    बेहतरीन कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  15. वंदे मातरम !

    बढ़िया कविता लिखी है आदरणीया अपर्णा जी !
    बहुत बधाई !

    सोच मे विस्तार होगा
    प्रीत का व्यवहार होगा
    नष्ट भ्रष्टाचार होगा

    अवश्य होगा…

    लेकिन
    भ्रष्टाचारियों और तानाशाहों से मुक्ति पाने के लिए
    अब लगातार यह याद रखना है ,
    और संपर्क में आने वाले हर शख़्स को निरंतर याद दिलाते रहना है ,
    प्रेरित करते रहना है कि चुनाव के वक़्त सही आदमी को वोट देना है …
    और
    मतदान आवश्यक कार्य मानते हुए
    पूरे दायित्व तथा समझ के साथ सही व्यक्ति/सही पार्टी को वोट देना है !

    …अन्यथा दोषी आप-हम ही होंगे …

    अच्छी रचना है राष्ट्रहित और देशप्रेम से ओत-प्रोत …
    पुनः साधुवाद !

    अंत में …
    बीते हुए हर पर्व-त्यौंहार सहित
    आने वाले सभी उत्सवों-मंगलदिवसों के लिए
    ♥ हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !♥
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  16. देश प्रेम से ओत-प्रोत सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  17. चलिये आपके-हमारे दिल की मुराद पूरी हो.

    उत्तर देंहटाएं
  18. हम सबकी आशा है के ऐसा जरूर होगा! बहुत अच्छी कविता!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth