प्रशंसक

गूगल अनुसरणकर्ता

गुरुवार, 19 मार्च 2015

नेता




अक्सर ऐसा देखने में आता है, कि एक आम आदमी जब राजनीति मे कदम रखता है तो उसके मन मे कुछ अलग करने का जज्बा अपने उफान पर होता है, जैसे जैसे वो राजनीति के सागर मे कदम रखता जाता है उसे ये अहसास होने लगता है कि इसमे पलने वाले बडे बडे बेइमान मगरमच्छ उसकी सत्य और इमानदारी की छोटी सी मछली को कब निगल जायेगे ये उसको ही पता नही चलेगा, इसलिये उनसे बैर ले कर जीवन की रक्षा नही की जा सकती। फिर एक दिन यही छोटी मछली मगरमच्छ से सारी गुण सीख कब एक मगरमच्छ बन जाती है शायद उसको ही ये मालूम नही चलता..............................

सीधा सदा आम सा जन, देखिये नेता हो गया
झूठ बोलना बात बात पर जाने कैसे सीख गया
*
देश प्रेम पर, जान देने वाले को, ये क्या हो गया
देश हित मे देश बेचना, जाने कैसे सीख गया
**
सेवा करने का उद्देश्य, राह से ही भटक सा गया
वोटों का व्यापार नोट से, जाने कैसे सीख गया
***
व्रत स्त्री हित कर्म तज, हीन कर्म मे लीन हुआ
सुरा सुन्दरी का नित सेवन, जाने कैसे सीख गया
****
निश्चय बुराई के नाश का, विलुप्त कैसे हो गया
उज्ज्वल वस्त्र में काले धंधे, जाने कैसे सीख गया
*****
आचरण का सबक सीख, राजनीति मे कदम धरा

पूज सत्य, असत्य आचरण जाने कैसे सीख गया
******
मन्नत माँग सेवा भाव की, भ्रष्टाचार मे लीन हुआ
रिश्तों में राजनीतिक मिलावट, जाने कैसे सीख गया

मंगलवार, 17 मार्च 2015

संतुष्टि


पिछले एक घंटे से मै अपनी बालकनी मे बैठी सामने पार्क में लगे पेडों पर इधर से उधर घूमते चिडिया के एक जोडे को देख रही थी। वो कुछ देर पहले एक साथ एक डाल पर बैठे थे। उनमें से एक, कुछ दूर के दूसरे पेड पर जा बैठी, अगले ही पल दूसरी चिडियां भी पहले के पास ही जा उडी मगर कुछ दूर वाली डाल पर बैठ गयी, फिर थोडी देर में पहली वाली उसके बिल्कुल समीप आ कर बैठ गयी। दोनो चिडियों की गतिविधि देखने से ये तो तय था कि इनमे से एक चिडा था, प्रकृति में ऐसा आकर्षण विपरीत लिंग में ही देखा जा सकता है। शायद दोनो मे बीच कुछ प्यारा सा मनुहार चल रहा था। उनको देखते देखते ऐसा लगने लगा जैसे उनमें से एक मैं और दूसरा आकाश है। काश ये सच हो पाता, कितने निर्बाध और स्वच्छंद हो वो एक दूसरे से भावनाओं का आदान प्रदान कर रहे थे। उन्हे देखते देखते मुझे मनुष्य होने का दुख होने लगा। कितने पहरे कितनी बाधायें है। यहाँ प्रेम करना एक अपराध सा लगता है, आकाश से मिलने के लिये मुझे कितने जतन करने पडते हैं। सहसा मुझे ऐसा अनुभव हुआ कि मैं उनकी बातों को सुन व समझ सकती हूँ, एक चिडिया दूसरे से कह रही थी- ये मनुष्य जीवन भी कितना अच्छा होता है, छोटा हो या बडा , ये अपना एक घर तो बना पाते है, उसकी सुरक्षा तो कर पाते हैं, एक हम हैं चाहे जितनी मेहनत से हम अपना घरौंदा बनाये मगर जब सुबह को उससे निकलते हैं तो शाम को लौटते समय ये भी नही पता होता कि वो बचा भी होगा, या किसी ने अपने घर की सफाई से समय उसको भी साफ कर दिया होगा। काश कि हम मनुष्य होते तो साथ साथ बिना किसी भय के रह सकते। चलो शाम हो रही है चलते है, और देखते है कि हमे हमारा घर आज सकुशल मिलता है या नही, कहते हुये दोनो पश्चिम दिशा की तरफ उड गये। मैने थोडा और ऊपर को आकाश की तरफ देखा, सूरज भी पश्चिम की गोद में छुप कर चाँद को आने का न्योता दे रहा था। शाम के ढलते ढलते मेरे मन का नैराश्य भी जा चुका था, और मनुष्य होने पर पहले से ज्यादा खुशी का अनुभव हो रहा था।

शनिवार, 14 मार्च 2015

बेचैन ऩज्म


फूलों को रहने दूं शाखों पे
या गूंथ दूं तेरी जुल्फो मे
चाह रहा मन करूं शरारत
आज प्रकृति के रत्नो से

वो नाम छुपाते है मेरा
कांपते होठों की जुम्बिश मे
चाह रहा मन करूं बगावत
आज जहाँ की रस्मों से

सोंधा सोंधा सा मन हुआ
भींग हुस्न की बारिश मे
चाह रहा मन लिखूं इबारत
आज इश्क की नज्मों से

इल्म नही उनको फ़रो का
बेबाक गुजरते हैं गलियों से
चाह रहा मन करूं गुजारिश
मेरे साथ चले इन शहरों में

छूट गया मन्दिर मस्जिद
बैठा दर पे उसके बरसों से
चाह रहा मन करूं इबादत
आज सनम की कसमों से

बुधवार, 11 मार्च 2015

आखिरी पन्ना


ना जबान को किसी स्वाद की ख्वाइश थी, ना तन कभी फैशन के दायरों में बंध सका था, सुधा जी कितनी ही बार खीझ सी जाती थीं जब वो बिना नमक वाली दाल को भी ऐसे प्रेम से खा जाते थे जैसे कोई मोहन भोग हो। सारा जीवन ही तो उन्होने दो जोडी धोती और कुर्ते में काट दिया था, जीवन का हर पल किसी ना किसी के लिये समर्पित था, जब से मैने देखा हमेशा उन्हे किसी ना किसी काम को करते ही पाया। हर रिश्ते के साथ उन्होने अपने दायित्व का पालन किया, बेटे, भाई, पति, पिता सभी की भूमिका में उनको आदर्श माना जाता था। कभी किसी भी मुश्किल में उनके माथे पर चिन्ता की एक भी लकीर नही खिंची थी। फिर ऐसा क्या हुआ कि अस्सी वर्षों का उम्र का सफर आत्महत्या पर जा कर रुका।
करीब तीस वर्ष पहले मैं प्रभाकर जी के घर किरायेदार बन कर आया था, सदैव ही मुझे उनसे पिता समान स्नेह मिला। उन्होने ही मेरी भेंट दिव्या से करायी थी, और विवाह वेदी पर कन्यादान कर किरायेदार से दामाद बना मुझे अपना आशीर्वाद दिया था। यदि मुझे उनकी प्राकृतिक मृत्यु का समाचार मिला होता तब मुझे दुख तो अवश्य ही होता किन्तु उनकी आत्महत्या करने की खबर ने मेरे मन में हजारों प्रश्नों का जाल सा बिछा दिया।
आत्महत्या भी ऐसे की गयी जिसे किसी भी तरह से दुर्घटना नही माना जा सकता। उनके पार्थिव चेहरे पर कही भी तो कोई अशान्ति का चिन्ह नही था, कितना शान्त, निर्मल, ओजमय था वो मृत शरीर। ऐसा प्रतीत हो रहा था कि बस अभी निद्रा टूटेगी और वो चल देगें अपने किसी अधूरे काम को पूरा करने।
आज उनके देहावसान को एक सप्ताह गुजर चुका था, मगर प्रश्न अभी तक अनुत्तरित ही थे। समय की कमी के कारण तेरह दिन के क्रिया कर्म को तीन दिन तक सीमित कर, दोनो पुत्र कल वापस लौट गये थे। बेटे के इम्तेहान थे सो दिव्या को भी मैने वापस भेज दिया था । मै सवालों को खुला नही छोड सकता था, या ये कहे कि शेष किसी के पास ना तो समय था ना जिज्ञासा कि वो खुद को सवालों के जाल में उलझाता।
घर मे बस तीन लोग बचे थे, मै, दिव्या की माता और कुन्दन। वो कुछ अस्वस्थ थीं, तो उनको दवा देकर, सुला कर मै स्ट्डी रूम में कुछ पढने के उद्देश्य से आ गया। मै और प्रभाकर जी अक्सर अपना खाली समय यही बिताया करते थे।
टेबल पर हफ्ते भर के अखबारों का ढेर लगा हुआ था। प्रभाकर जी को यही बैठकर अखबार पढने का शौक था, तो कुन्दन सुबह उठते ही अखबार ला कर मेज पर रख देता था, शायद ये कार्य उसकी दिनचर्या का ऐसा हिस्सा बन गया था कि बिना ये सोचे कि अब इस घर में कोई भी स्ट्डी टेबल पर आ कर अखबार पढने वाला नही है, रोज पेपर ला कर रख दिया करता था। अरे आप लोगों को कुन्दन का परिचय देना तो मै भूल ही गया। कुन्द्न नेपाल का निवासी था, अपनी सौतेली माँ के अत्याचार से दुखी हो एक दिन घर छोड कर भाग आया था, जिस ट्रेन से प्रभाकर जी दिल्ली आ रहे थी, उसी की सीट के नीचे छुपा हुआ था। फिर अपने प्रभाकर जी तो थे ही सहदय सो उसको अपने साथ घर ले आये, ये घटना कोई सात आठ साल पहले की है, तबसे कुन्दन घर का नौकर कम मालिक ज्यादा था, क्या चीज प्रभाकर जी को खानी है क्या नही खानी है इसका निर्णय उसके ही हाथ था, सुबह प्रभाकर जी की नींद खुलने से पहले उठता और उनके सोने के बाद ही सोता था।
आज के अखबार के पन्ने उलटने पलटने के साथ ही प्रभाकर जी की मृत्यु का कारण फिर से मुझे बेचैन करने लगा। उनके साथ बिताये पल किसी रील की तरह मेरे जेहन में उभरने लगे थे, मृत्यु के दो दिन पहले कहे उनके शब्द अचानक दिमाग में कौंध उठे - रत्नेश आज कल एक कहानी लिखने की सोच रहा हूँ, वैसे तो ये काम कभी नही किया मगर मरने से पहले कम से कम एक कहानी लिखने की इच्छा है, तुम्हे पता है मैने कहानी का शीर्षक भी सोच लिया है- आखिरी पन्ना।
स्टडी रूम में थोडी देर खोजने के बाद मेरे हाथ में थी उनकी लिखी पहली और आखिरी कहानी। ये क्या ये तो उनकी अपनी कहानी थी, पढते पढते मेरी उत्सुकता अपने चरम पर थी, हो ना हो उनकी मृत्यु का रहस्य भी इसमें जरूर था,
ये कहानी उनके जीवन का सार थी, इसमें एक ऐसा दिवाकर पांडे था, जिसे मै जानता भी था और नही भी जानता था। कितनी ही ऐसी बातें थी इस कहानी के पात्र की जो हू बहू प्रभाकर जी के चरित्र से मिलती थी, अगर ये पात्र काल्पनिक नही, वो स्वयं को ही केन्द्र में रख कर लिख रहे थे तो कई रंग थे इस पात्र के जिनसे मैं अब तक अछूता ही था।
शान्त सुलझे दिखने वाले व्यक्ति के मन में इतनी उथल पुथल,  शिव सा जीवन जी रहे थे, कंठ में कितना हलाहल भरे सबको जीवन दे रहे थे। आह कैसे उनके इतना निकट होते हुये भी कभी उनकी विवशताओं को समझ नही सका।
वसीयत में अपनी जायदाद का कुछ हिस्सा कुन्दन के नाम कर देने पर इतना बडा आरोप, वो भी उनके पुत्रों द्वारा। वो पुत्र जिनके लिये उन्होने जीवन की हर मुश्किल हर बाधा को खुद तक समेट लिया था, मगर उन पर कभी किसी तकलीफ की परछाई तक नही पडने दी थी। हर व्यक्ति तो जानता था कि कुन्दन उनके लिये पुत्र समान है , मगर पुत्र होने का आरोप ही लगा दिया गया। क्या जिसको उन्होने संरक्षण दिया उसका जीवन सुरक्षित करने का दायित्व निभाना गलत था, वो जो उनकी पिछले आठ सालों से एक बेटे से बढ कर सेवा कर रहा था, वो जिसका उनके सिवा दुनिया में कोई नही था, वो जिसके पास उनके आशीष के सिवा कोई छत नही थी, उसको अपनी पूंजी का कुछ भाग दे देना कोई अपराध था।
जीवन कितना मुश्किल हो जाता है, जब अपने ही आप पर विश्वास खो बैठे, अपना रक्त ही आपको दोषी मान ले, जिसके चरित्र को चरित्रार्थ करते लोगों की जबान ना थकती हो, उस पर ही उंगली उठ जाय। जिसने सारा जीवन ही चरित्र निर्माण में लगा दिया हो, वो कैसे उसको आरोपित होते देख सकता था।

मृत्यु के एक दिन पहले लिखी कहानी के आखिरी शब्द- जीवन सांसों के बन्धन में बंधा अवश्य होता है, मगर वो जीवन की धुरी नही। धुरी तो है चरित्र, जो आपके जीवन को परिभाषित करता है, मै लिखना चाहता हूँ एक ऐसा जीवन जिसका एक एक शब्द गंगा सा स्वच्छ , निर्मल और पवित्र हो, नही देख सकता कि कोई इस गंगा को अपवित्र करने की कोशिश करे, इसलिये मोडना ही होगा इस गंगा की धारा को, जहाँ से वह अवरोध रहित हो बह सके। 
GreenEarth