प्रशंसक

गूगल अनुसरणकर्ता

बुधवार, 7 मार्च 2018

स्त्री हूँ थोडा सा प्यार चाहिये




ना हार चाहिये ना गुलाब चाहिये
स्त्री हूँ थोडा सा प्यार चाहिये

जाने कब से तडप रही हूँ
बिन पानी के मछली सी
अपने ही घर में सदा रही
अमानत किसी पराये की
ना घर चाहिये ना दुआर चाहिये
स्त्री हूँ थोडा सा दुलार चाहिये
ना हार चाहिये ना गुलाब चाहिये
स्त्री हूँ थोडा सा प्यार चाहिये

तज कर के सर्वस्व तुम्हारे
आंगन मे मै आयी हूँ
देव मान के तुमको अपने
हदय स्थल में बिठाये हूँ
ना धन चाहिये ना वरदान चाहिये
स्त्री हूँ थोडा सा सम्मान चाहिये
ना हार चाहिये ना गुलाब चाहिये
स्त्री हूँ थोडा सा प्यार चाहिये

कोख में अपना रक्त पिला
हाड मास आकार दिया
भूल गयी अपना तन मन 
और उडने को तुम्हे आकाश दिया
ना सेवा चाहिये ना सत्कार चाहिये
स्त्री हूँ रिश्तो का संसार चाहिये
ना हार चाहिये ना गुलाब चाहिये
स्त्री हूँ थोडा सा प्यार चाहिये

दुनिया की चमक धमक मे भी
मै सिमटी सुकडी रहती हूँ
डरती नही मुश्किलों से पर
गिद्धों से भागी फिरती हूँ
ना आरक्षण चाहिये ना त्योहार* चाहिये
स्त्री हूँ सिर्फ शुद्ध व्यव्हार चाहिये
ना हार चाहिये ना गुलाब चाहिये
स्त्री हूँ थोडा सा प्यार चाहिये

*महिला दिवस को लेखिका यहाँ त्योहार कहती है

7 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (09-03-2017) को "अगर न होंगी नारियाँ, नहीं चलेगा वंश" (चर्चा अंक-2904) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खूब लिखा आपने अपर्णा दी हर पंक्ति
    अपने आप मैं सम्पूर्ण

    उत्तर देंहटाएं
  3. अब समय आ गया है हक़ लेने का ! याचना का नहीं !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. शर्मा जी, आपके विचारों का सम्मान करना चाहती हूँ किन्तु पूछना चाहती हूँ आपको किन पंक्तियों में याचना का आभास हुआ।
    और अपनों के सामने यदि झुका भी जाय तो वह याचना नही, जरूरी तो नही कि अधिकारों के लिये हमेशा युद्ध ही किया जाय

    उत्तर देंहटाएं
  5. आदरणीय / आदरणीया आपके द्वारा 'सृजित' रचना ''लोकतंत्र'' संवाद मंच पर 'सोमवार' १२ मार्च २०१८ को साप्ताहिक 'सोमवारीय' अंक में लिंक की गई है। आप सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    निमंत्रण

    विशेष : 'सोमवार' १२ मार्च २०१८ को 'लोकतंत्र' संवाद मंच अपने सोमवारीय साप्ताहिक अंक में आदरणीया साधना वैद और आदरणीया डा. शुभा आर. फड़के जी से आपका परिचय करवाने जा रहा है।

    अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  6. निमंत्रण

    विशेष : 'सोमवार' १९ मार्च २०१८ को 'लोकतंत्र' संवाद मंच अपने सोमवारीय साप्ताहिक अंक में आदरणीया 'पुष्पा' मेहरा और आदरणीया 'विभारानी' श्रीवास्तव जी से आपका परिचय करवाने जा रहा है।

    अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  7. अद्भुत अपर्णा जी अद्भुत लेखन शब्द न रह गए हैं शब्द कोष में सब कुछ धर दिया है ज्यों का त्यों जो हर स्त्री आभाष करती है,हर स्त्री की जो मनशा है लेखनी में मानो मोहपाश भरकर लिखा हो मैं तो दीवानी से हो गयी आपके लेखन के इस एक काव्य पर मेरी सारी शुभकामनाएं आदर आपको

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth