प्रशंसक

बुधवार, 1 फ़रवरी 2012

मुलाकात के बाद


इक मुद्दत के बाद
जब उनसे मुलाकात हुयी

जुबाँ पे एक भी
लफ्ज ना पाया हमने.....

खुशी से आँखे नम
हुयी कुछ इस तरह

जैसे तपती रेत पर
ओस को पाया हमने......

माँग रही थी खुदा से
खुशी चंद लम्हात की

दीदार से तमाम उम्र का
बेशुमार सुकू पाया हमने....

ख्वाब जो हर रात
संजोती थी पलकों तले

हकीकत की जमीं पर
नूर सा पाया हमने.....

खुदा ठुकराता नही
सच्चे दिलों की दुआ

इस बात पर अब यकीं
खुद को दिलाया हमने....

23 टिप्‍पणियां:

  1. खुशियों का मतलब उनका दीदार ही था ...
    सुन्दर भावाभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छा लिखा है अपर्णा जी... बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर , मोहक अभिव्यक्ति !
    [देव]

    उत्तर देंहटाएं
  4. कल 03/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही गहरे और सुन्दर भावो को रचना में सजाया है आपने.....

    उत्तर देंहटाएं
  6. खुदा ठुकराता नही
    सच्चे दिलों की दुआ

    इस बात पर अब यकीं
    खुद को दिलाया हमने....

    ....बहुत खूब! बहुत सुंदर अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेहतरीन भावभिव्यक्ति ...http://mhare-anubhav.blogspot.com/ समय मिले कभी तो आयेगा मेरी इस पोस्ट पर आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  8. //जैसे तपती रेत पर
    ओस को पाया हमने......

    //खुदा ठुकराता नही
    सच्चे दिलों की दुआ
    //इस बात पर अब यकीं
    खुद को दिलाया हमने....

    waah.. bahut khoob.. :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. अतिसुन्दर रचना है मन को छू गई |

    उत्तर देंहटाएं
  10. भावपूर्ण...

    इस बात पर अब यकीं
    खुद को दिलाया हमने....

    उत्तर देंहटाएं
  11. हर मुलाकात में तवारीख लिखी होती है

    दर्दे दिल की हर बात सहज होती है

    हमसफ़र कोइ जब बिछुड़ जाता है

    उसकी हर याद बहुत प्यारी चीज होती है

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth