प्रशंसक

गूगल अनुसरणकर्ता

शनिवार, 14 अप्रैल 2012

जब तुम दूर होते हो..............


आती साँसे दिल में तेरी यादें ले कर आती हैं

जाती साँसे आँखों से आसूं बनकर बह जातीं हैं॥

हर पल बीते लम्हों की दास्तां ले कर आता है

हर घडी मेरी किस्मत पर हँस कर चली जाती है॥

रात तुम्हारे ख्वाबों को सजा करके ले आती है

सुबह की पहली किरण फिर दूर तुम्हे ले जाती है॥

मुश्किल से भी फुरसत का इक पल नही मिल पाता है

तेरी राह तकते तकते ही सुबह से शाम हो जाती है॥

20 टिप्‍पणियां:

  1. अपर्णा ... तुम्हारी कविता पढ़कर एक ही बात कहूंगा
    भूलने की कोसिस में तुम और याद आती गई
    हवा तो कम हुई , मगर बारिस बढती गई //

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दरता से प्रकट किये गए भाव |||
    आभार ||

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर कविता और मुझे तो बहुत ही पसंद आई शुभकामनायें अपर्णा दी

    उत्तर देंहटाएं
  4. कल 16/04/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. दूरियाँ यादों को उद्वेलित कर देती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. हर घडी मेरी किस्मत पर हँस कर चली जाती है॥
    रात तुम्हारे ख्वाबों को सजा करके ले आती है

    बहुत सुंदर रचना...बेहतरीन पोस्ट
    .
    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: आँसुओं की कीमत,....

    उत्तर देंहटाएं
  7. फिर भी राह ताकना नहीं छोड़ा जाता ... इसी को तो प्यार कहते हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रेम में विछोह , अभिव्यक्ति का एक सशक्त कारक रहा है . भक्तिकाल की गोपियों से लेकर आधुनिक काल की कविताओ में विछोह स्थाई भाव की तरह मिल जाता है, इस कविता में प्रियतम से दूर नायिका के मनोभाव को सूक्ष्मता से दर्शाया गया है ,मनोहारी पंक्तियाँ आह्लादित करती है . सुँदर .

    उत्तर देंहटाएं
  9. बस यही यादें और इंतज़ार .... अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  10. मुश्किल से भी फुरसत का इक पल नही मिल पाता है


    तेरी राह तकते तकते ही सुबह से शाम हो जाती है॥
    very nice....

    उत्तर देंहटाएं
  11. बस यादें यादें ,यादें ही तो रह जाती है ताउम्र रुलाने और हँसाने के लिए इंसान के जीवन में ये न होतो बोलो फिर क्या यह ज़िंदगी है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. मुश्किल से भी फुरसत का इक पल नही मिल पाता है
    तेरी राह तकते तकते ही सुबह से शाम हो जाती है...वाकई बहुत ही सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  13. रात तुम्हारे ख्वाबों को सजा करके ले आती है

    सुबह की पहली किरण फिर दूर तुम्हे ले जाती है॥

    वाह! वह !!

    सुन्दर रचना !!

    उत्तर देंहटाएं
  14. अपर्णा जी,
    नमस्ते!
    खूबसूरत इंतज़ार!
    आशीष
    --
    द नेम इज़ शंख, ढ़पोरशंख !!!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth