प्रशंसक

शनिवार, 22 सितंबर 2012

तो ना चल इश्क की राहों में..........


जो  सोचने को है कुछ अब भी

तो ना चल इश्क की राहों में

जो दुनिया का खौफ है अब भी

तो ना चल इश्क की राहों में

जो परेशां होना, देता सुकू नही

तो ना चल इश्क की राहों में

जो चाहत है सिर्फ खुशियों की

तो ना चल इश्क की राहों में

जो जज्बातों में है दुनियादारी

तो ना चल इश्क की राहों में

जो नैनों में नीर का सागर नही

तो ना चल इश्क की राहों में

जो नही यकी तुझे खुद पर ही

तो ना चल इश्क की राहों में

जो किस्मत आजमाने शौक नही

तो ना चल इश्क की राहों में

जो खुद को खोने का हौसला नही

तो ना चल इश्क की राहों में

 

14 टिप्‍पणियां:

  1. यदि खोने का हो डर तो न चल इश्क की राहों पर..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ख़ूबसूरत सृजन, बधाई.

    कृपया मेरे ब्लॉग पर भी पधारें , अपना स्नेह प्रदान करें.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहन अगर लोग इतना सोच कर इश्क करते तो इतिहास के पन्ने इश्क की कहानियों से न भरे होते |बहुत ही सुंदर रचना है , बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  4. जितना भी मन करो ... इंसान फिर भी इस रास्ते पे चलता है ...
    आसान नहीं है इश्क की राह पर फिर भी चलता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह बेहतरीन रचना सत्य अगर ये सब चीज़ों से बचना है तो इश्क की राह में चलन छोडना होगा.

    उत्तर देंहटाएं
  6. इश्क करने से पहले इतना कहाँ सोचा जाता है...बहुत सुन्दर..

    उत्तर देंहटाएं
  7. कल 24/09/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  8. जो किस्मत आजमाने शौक नही
    तो ना चल इश्क की राहों में
    जो खुद को खोने का हौसला नही
    तो ना चल इश्क की राहों में.

    एक गंभीर प्रश्न किया गया है इश्क की पेचीदगियों को सझते हुए. सुंदर प्रस्तुति.

    बधाई अपर्णा जी.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर ...सही कहा ...एक आग का दरिया है और डूब के जाना है

    उत्तर देंहटाएं
  10. इतना सोच कर कहाँ कोई इश्क़ करता है .... खूबसूरत प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही सुंदर रचना है , बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह||
    बहुत बहुत बढ़िया रचना..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  13. यहाँ जो भी आया गया हाथ मल के, सुंदर रचना,वाह !!!!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. इश्क की राहे कब होती है आसान ।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth