प्रशंसक

गूगल अनुसरणकर्ता

बुधवार, 29 सितंबर 2010

अयोध्या की गुजारिश

ना मुझे मन्दिर की हसरत ,
ना मुझे मस्जिद की ख्वाइश ।
बाँट ना बस हिन्द को अब ,
मेरी इतनी सी गुजारिश ॥

रक्त का चन्दन मेरे,
माथे का कलंक बन जायगा ।
चादर चढाओगे मुझपे जो ,
कफन वो मेरा कहलायेगा ॥
घर किसी का उजडे जिससे,
 ना बना ऐसी कोई साजिश ।
बाँट ना बस हिन्द को अब ,
मेरी इतनी सी गुजारिश ॥

मै तो बसता हूँ तुम्ही में,
दिल में देखो तो जरा ।
लाशों की नींव के तले,
ना बना तू दर मेरा ॥
बरसों सहा चुपचाप मैने,
ना कर सब्र की आजमाइश ॥
बाँट ना बस हिन्द को अब ,
मेरी इतनी सी गुजारिश ॥

मेरी इतनी सी गुजारिश .....................

10 टिप्‍पणियां:

  1. अवध का अर्थ जहा किसी का वध ना हो
    सही मौके पर आपने इस बात को चरितार्थ किया है

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत रोचक और सुन्दर अंदाज में लिखी गई रचना .....आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. समसामयिक सार्थक सन्देश देती रचना के लिये बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut hi hrday sparshi lines hai
    padkar nami agai ankho main

    उत्तर देंहटाएं
  5. ्ह्रदयस्पर्शी रचना……………आज की जरूरत्।

    उत्तर देंहटाएं
  6. काश!! ये आवाज उन कानों तक पहुँचती.

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. आठ हजार प्रष्ठ का लेखा लिख डाला न्यालायाय ने
    एक और दो की गणित सिखाई थी हमको विद्यालय ने
    पर न पता था यहाँ दिखेगा अंकों से होता विभाजन
    कर डाला बंटवारा इसका अब नहीं कोई फरमाईश
    बाँट ना बस हिन्द को अब ,
    मेरी इतनी सी गुजारिश ॥

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth