प्रशंसक

गूगल अनुसरणकर्ता

रविवार, 24 जुलाई 2011

एक्स - प्यार


अरुण से मेरा रिश्ता किसी नाम का मोहताज नही था , मेरा मानना था कि प्यार दिल से किया और निभाया जाता  है , इसके लिये यह जरूरी नही कि हम किसी बंधन में बंधे ।

ऐसा नही था कि हम दोनो शादी करना नही चाहते थे , मगर अगर हमारे मिलने से हमारे अपनों को तकलीफ मिलती है तो इससे अच्छा है कि हम एक दूसरे से दूर ही हो जाये । अरुण के पिता ने अपना फैसला सुना दिया था - अगर तुम्हे दीप्ती से शादी करनी है तो फिर तुमको इस घर से जाना होगा । अरुण उस दिन अपने पापा से लडाई करके मेरे घर आया था , मुझसे कहने लगा कि मै घर छोड कर आया हूँ । तब बहुत मुश्किल से मैने उसे समझा कर उसे घर भेजा और पिता जी की मर्जी से शादी कर लेने की कसम भी दी थी । मुझे विश्वास था कि हमारा प्यार जैसा आज है कल भी रहेगा और हमेशा रहेगा । बहुत कोशिश करने के बाद अरुण ने दिवा से शादी की थी , आज उसकी शादी को दो महीने हो चुके थे , हमारे प्यार मे मुझे कभी कोई अंतर महसूस नही होता था ।

मै आफिस में बैठी अपने और अरुण के साथ बीते दिनों की याद में खोई सी थी कि तभी मल्होत्रा जी की आवाज मेरे कानों मे पडी - देखते है दुबे जी , अपने अरुण की तो लाटरी लग गयी दोनो हाथों से लड्डू खा रहे है , फिर मेरी तरफ हल्का सा इशारा करते हुये बोले यही तो है अपने अरूण का एक्स प्यार । शादी कर ली मगर आज भी ............... आगे के शब्द मेरे कानों को सुनाई नही दिये या मेरी सुनने की क्षमता ने जवाब दे दिया था । क्या दुनिया में प्यार की यही परिभाषा बची थी ।
अच्छा ही हुआ जो राधा इस कलियुग में नही जन्मी वरना लोग आज उनकी पूजा नही करते सिर्फ शब्दों मे बाण ही चलाते । कोई भला कैसे समझाये कि प्यार कभी एक्स नही होता , प्यार तो बस प्यार होता है । जो सिर्फ निभाया जाता है , जो बंधनों का मोहताज नही होता ।


25 टिप्‍पणियां:

  1. "अच्छा ही हुआ जो राधा इस कलियुग में नही जन्मी वरना लोग आज उनकी पूजा नही करते सिर्फ शब्दों मे बाण ही चलाते । कोई भला कैसे समझाये कि प्यार कभी एक्स नही होता , प्यार तो बस प्यार होता है । जो सिर्फ निभाया जाता है , जो बंधनों का मोहताज नही होता ।"

    सही संदेश दिया है आपने।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच्चाई को दर्शाती एक सारगर्भित पोस्ट, बहुत बहुत बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  3. नए बदलते समाज ने प्यार को क्या क्या नाम न दे दिए..
    प्यार तो बस प्यार होता है..गुलज़ार साहब ने कहा है न
    "सिर्फ एहसास है ये, रूह से महसूस करो
    प्यार को प्यार ही रहने दो, कोई नाम न दो.."

    उत्तर देंहटाएं
  4. सच कहा प्यार का सच्चा स्वरूप सिर्फ़ सच्चे ह्रदय वाले ही जान सकते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. जब हर दिन सूर्य नयी ऊर्जा ले निकलता है तो पुरानी बातों में क्यों उलझा जाये।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही महीन तरीके से प्यार की एक नयी परिभाषा गढ़ दी .......

    सुंदर.

    उत्तर देंहटाएं
  7. दीप्ति का प्यार बे-मिसाल है और मल्होत्रा का चरित्र समाज की सोच का परिचायक।
    बहुत ही अच्छी कहानी।

    उत्तर देंहटाएं
  8. समाज की सही सचाई को प्रस्तुत किया है आपने... आज कल प्यार का सवरूप ही बदल गया है...

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्यार का अर्थ लोग अक्सर नहीं समझ पाते हैं !
    शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. सच कहा प्यार किसी बंधन का मोहताज नहीं.....
    बहुत बढ़िया...

    उत्तर देंहटाएं
  11. aadrash sirf manne ke liye hote hai amal karne ke liye nahi. jis din log pyar ko samajh lenge us din ye duniya hi badal jayegi.

    उत्तर देंहटाएं
  12. सच्चा प्यार बेताल है, फैण्टम है, जिसकी बातें तो सब करते हैं, लेकिन जो आज तक किसी को नसीब नहीं हुआ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. समाज की सचाई को प्रस्तुत किया है आपने... शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर प्रस्तुति....
    सच्चे प्यार को समझने वाले कहाँ ?

    'कबीरा यह घर प्रेम का,खाला का घर नाहिं
    शीश उतारै कर धरै,तब पैठे घर मांहि'

    उत्तर देंहटाएं
  15. प्यार शब्द बहुत सीमित दायरे में कैद हो चुका है ..

    अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  16. प्यार की सही परिभाषा दी है आपने किसी न किसी दिन सफ़लता तो मिलेगी ही आज नही तो कल। समय हमेशा एक सा नही होता।

    उत्तर देंहटाएं
  17. प्यार बस प्यार होता है... सचमुच...
    सशक्त लेखन....
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  18. प्यार महसूस करने की चीज़ है.

    उत्तर देंहटाएं
  19. समाज की सही सचाई को yahi है....

    उत्तर देंहटाएं
  20. कोई भला कैसे समझाये कि प्यार कभी एक्स नही होता , प्यार तो बस प्यार होता है । जो सिर्फ निभाया जाता है , जो बंधनों का मोहताज नही होता ।

    बहुत सही कहा आपने .... प्यार तो प्यार होता है, किसी बंधन का मोहताज नहीं होता !
    आपके ब्लॉग पर आना लगा रहेगा ..
    अच्छा लगा यहाँ आकर ....

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth