प्रशंसक

गूगल अनुसरणकर्ता

सोमवार, 1 अप्रैल 2013

मै कौन हूँ ????




कभी अधूरी प्यास हूँ , कभी खामोश आवाज हूँ ,
कभी धूल मै राहों की , कभी  गीत का साज हूँ

कभी किसी का राज हूँ , कभी किसी का नाज हूँ ,
कभी अनबुझ पहेली हूँ कभी तडपती बात हूँ

कभी आइने सी साफ हूँ , कभी पाकीजा आग हूँ ,
कभी मैं शीतल छाया सी ,कभी प्रतीक्षित सौगात हूँ

कभी बहता झरना हूँ, कभी जंजीरों मे जकडी हूँ,
कभी सुहाना मौसम हूं , कभी मचलती बरसात हूँ

कभी तन्हा जीवन हूँ , कभी महफिल की शान हूँ
कभी हंसी सुबह हूँ तो , कभी बिखरती रात हूँ

कभी रिवाजो की गठरी , कभी काठ की पुतली हूँ
कभी लाज शर्म की मूरत , कभी मै टूटी साख हूँ

कभी बोझ अपनो का हूँ , कभी अमानत परायी हूँ
कभी सिमट्ती धरती हूँ , कभी स्वच्छंद आकाश हूँ

बाबुल की चहेती गुडिया हूँ, खुद के लिये "पलाश" हूँ
पर सदा ही मै एक नारी हूँ, कभी आम कभी खास हूँ

20 टिप्‍पणियां:

  1. कभी बोझ अपनो का हूँ , कभी अमानत परायी हूँ
    कभी सिमट्ती धरती हूँ , कभी स्वच्छंद आकाश हूँ

    सटीक भावाभिव्यक्ति ...!!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. कभी आइने सी साफ हूँ , कभी पाकीजा आग हूँ ,
    कभी मैं शीतल छाया सी ,कभी प्रतीक्षित सौगात हूँ
    sandar lines hai

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 03/04/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

      हटाएं
  3. क्या कहूं......शब्द नहीं है ....बहुत ही सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  4. नारी के विभिन्न रुपो का बहुत सुन्दर वर्णन
    अति सुन्दर ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. पहेली समझते हैं लोग पर बहुत सरल हूँ मैं!

    उत्तर देंहटाएं
  6. अभिब्यक्ति स्नेह की पावन सरिता बूझे अपना राग
    कौन हूँ 'मै , कहाँ हूँ,पूछे निज अनुभाग
    जिसके प्रेम का पावन परिणय सागर रहा है मांग
    वह पूछे ;;मै कौन हूँ ; रचा बिधाता स्वांग ........

    उत्तर देंहटाएं
  7. pravah liye hue asar chodti hui ek saundhi si rachna :-)

    मेरी नयी रचना Os ki boond: लव लैटर ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  9. ...बहुत ही सुन्दर

    नई रचना
    तभी तो हमेशा खामोश रहता है आईना !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही सुन्दर रचना ! मन की अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth