प्रशंसक

गूगल अनुसरणकर्ता

गुरुवार, 7 दिसंबर 2017

मै और मेरा वक्त


देखा है
वक्त को
सावन सा बरसते
कभी बूँद बूँद रिसते हुये
देखा है
वक्त को
बच्चे सा भागते
कभी हांफते कदमों से रेंगते हुये
देखा है 
वक्त को
रेत सा फिसलते
कभी बर्फ सा पिघलते हुये
देखा है
वक्त को
नॄतकी सा थिरकते
कभी गुमसुम सुबकते हुये
देखा है 
वक्त को
प्रेमी सा रूठते 
कभी प्रियतम सा उपहार देते हुये
देखा है
वक्त को
साथ साथ चलते
अपना हिस्सा बनते हुये

वो वक्त ही तो है
जो रोया था मेरे साथ
और मेरी हंसी पर हंसा था
वो वक्त ही तो है
जब कोई न था मेरे साथ
तब भी मेरे आस पास था
वो वक्त ही तो है
जो तब भी न गया छोड के मुझे
जब कहा इसे भला बुरा
वो वक्त ही तो है
जिसे कोसने मगर उसने दिया
मुझे विश्वास, हौसला जीने का
वो वक्त ही तो है
जो जन्मा है मेरे साथ
जो छोड देगा जहाँ मेरे साथ 

9 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (09-12-2017) को "महँगा आलू-प्याज" (चर्चा अंक-2812) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत हृदयस्पर्शी रचना है ये, मानो सबकुछ सामने ही घट रहा हो...

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द" में सोमवार ११ दिसंबर २०१७ को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.com आप सादर आमंत्रित हैं ,धन्यवाद! "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुंदर रचना अर्पणा जी ।
    मन की पाती जी - मैंने भी एक इसी विषय पर कविता लिखी थी परंतु यह मेरे द्वारा लिखी कविता नही है । हो सकता है कविता को पढ़ते हुए आपको ऐसा लगा लेकिन मेरा कर्तब्य है कि मैं ऐसे क्लियर करूं ।
    धन्यवाद आप सभी साहित्यकारों का

    उत्तर देंहटाएं
  5. अति सुंदर जीवन दर्शन आदरणीय अपर्णा जी !! सस्नेह शुभकामना |

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth