प्रशंसक

शुक्रवार, 4 फ़रवरी 2011

कहाँ गये वो आँसू .......


सुना करते थे कि आँसू तो
होते अपनेपन की निशानी है।
हर इक आँसू की होती  
कोई ना कोई कहानी है  ॥







बदलने की आदत में दिल के
रिश्ते भी बदलते जाते हैं ।
जिसको अपना समझते हैं
उसी से धोखा खा जाते हैं ॥
किसी की याद में रोना
हो चला अब तो बेमानी है
हर इक आँसू की होती ………………

खुशी किसी की सुनकर अब
आसूँ नही छलकते आँखों से ।
गले न मिलते बरसों के बिछडे
बस हाथ मिलाते हाथों से ॥
आसूँ अब नही रहे मोती
ये बेबस नमक का पानी है
हर इक आँसू की होती ……….............

20 टिप्‍पणियां:

  1. आसूँ अब नही रहे मोती
    ये बेबस नमक का पानी है
    हर इक आँसू की होती ......
    --
    मार्मिक रचना प्रस्तुत की है आपने!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर तरीके से विचार प्रस्तुत किये हैं....सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सच है, हर आँसू की होती है एक कहानी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. खुशी किसी की सुनकर अब
    आसूँ नही छलकते आँखों से ।
    गले न मिलते बरसों के बिछडे
    बस हाथ मिलाते हाथों से ॥
    आसूँ अब नही रहे मोती
    ये बेबस नमक का पानी है
    हर इक आँसू की होती ……….............



    अपर्णा जी
    आपने बहुत संवेदनात्मक तरीके से जीवन से जुडी सच्चाईयों को अभिव्यक्त किया है ...सच कहा है अब तो हाथ से हाथ मिलाना ही बहत कुछ हो गया है ...लोगों के दिल मिले या न मिले, लेकिन औपचारिकता के नाम पर जरुर हाथ मिलाये जाते हैं ....आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. दिल से लिखी गई सुन्दर रचना। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुना और माना मैंने भी
    बात जानी पहचानी है
    सत्य आज भी यही समझ में
    हर आंसू की एक कहानी है

    जब भी दिल को बात छु चली
    खिला फूल या मुरझाये कली
    वजह नयी या पुरानी है
    हर आंसू की आज भी
    होती एक कहानी है

    नहीं किसी के बस में अब भी
    लाना या रोक पाना आंसू
    जब मन ने मन में है ठानी
    धरा ये बह जानी है
    हर आंसू की आज भी
    होती एक कहानी है!!!

    दीदी बहुत अच्छा और सत्य लिखा है .... मेरी तरफ से कुछ आपकी कविता में एक जुडाव की कोशिश :-)

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर रचना...
    अश्रु-गाथा...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही प्यारे भाव.

    मर्मस्पर्शी कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  9. गहरे एहसास के साथ लिखी गयी बेहतरीन कविता ...........सुंदर प्रस्तुति .
    सृजन _ शिखर

    उत्तर देंहटाएं
  10. वर्तमान परिवेश में आँसू को अच्छा परिभाषित किया है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. यह खारा पानी जख्म को धोने का अच्छा काम करता है |खुशियों की चमक बढ़ाने में भी यह सहायक है |

    उत्तर देंहटाएं
  12. बदलने की आदत में दिल के
    रिश्ते भी बदलते जाते हैं ।
    जिसको अपना समझते हैं
    उसी से धोखा खा जाते हैं ॥
    गहरे एहसास के साथ लिखी
    गयी बहुत ख़ूबसूरत मार्मिक कविता...
    जितनी भी तारीफ़ की जाय कम है .
    कृपया आशावादी बनिए निराशावादी नहीं....

    उत्तर देंहटाएं
  13. दीदी बहुत अच्छा और सत्य लिखा है

    उत्तर देंहटाएं
  14. कई दिनों से बाहर होने की वजह से ब्लॉग पर नहीं आ सका
    बहुत देर से पहुँच पाया ....माफी चाहता हूँ..

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुना करते थे कि आँसू तो
    होते अपनेपन की निशानी है।
    हर इक आँसू की होती
    कोई ना कोई कहानी है ॥
    अच्छी रचना , बसंत पंचमी की बहुत बहुत बधाई हो

    उत्तर देंहटाएं
  16. सच है, हर आँसू की होती है एक कहानी।

    उत्तर देंहटाएं
  17. इन आँखों में छुपी उदासी को महसूस तो कर
    हम सब को हंसा कर खुद रात भर नहीं सोते....

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth