प्रशंसक

गूगल अनुसरणकर्ता

गुरुवार, 11 अगस्त 2011

आजादी की तैयारी


१५ अगस्त की तैयारियां बहुत जोर शोर से चल रही थी , शम्भू नाथ जी का मंत्री बनने के बाद अपने गाँव में पहला दौरा था . वो कुछ ऐसा करना चाह रहे थे जिसे बरसों याद रखा जाय ।
गाँव को खूब सजाया जा रहा था , मंत्री जी स्वयं तैयारियों का जायजा ले रहे थे । कि तभी उन्होने अपने सेकेट्री से कहा- हरिकिशन ये तो सब ठीक है लेकिन ये बताओ कल के लिये खास क्या है , वो बोला- सर आदेश कीजिये ।
हम सोच रहे है कि क्यों ना कल कबूतर उडा कर शान्ति का संदेश दिया जाय । क्यो कैसा रहेगा ?
जी सर बिल्कुल ठीक ,फिर धीरे से कुछ डरते डरते वो बोला- मगर सर इसमे नया ...... ।
              तभी मंत्री जी हसते हुये बोले - तुम भी ना रहोगे मूरख ही । अरे भई हम एक दो नही पूरे एक हजार कबूतर उडायेगे । अब जाइये आप और कबूतरों का इन्तजाम कीजिये , और हाँ ये बताइये हमारे लिये कबूतरी का इन्तजाम करने के लिये भी क्या आदेश की ही प्रतीक्षा कीजियेगा । कुछ तो खुद से कर लिया कीजिये ।

12 टिप्‍पणियां:

  1. इस बार हमें भ्रष्टाचार , महंगाई , बेईमानी , आतंकवाद, गरीबी, भुखमरी , साम्प्रदायिकता और आरक्षण से मुक्ति मिले आज़ादी मिले .. अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

    उत्तर देंहटाएं
  2. कबूतर तो ठीक हैं लेकिन यह कबूतरी ....वर्तमान नेता की सोच को बखूबी अभिव्यक्त किया है आपने ....!

    उत्तर देंहटाएं
  3. यही तो आज़ादी है, जिसमें हम विकृतियों के ग़ुलाम हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सही लिखा आपने.
    कल 12/08/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूब कहा है आपने ... ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आज-कल के नेताओं की पोल खोलती हुई ......सार्थक पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  7. स्वाधीनता दिवस की हार्दिक मंगलकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth