प्रशंसक

बुधवार, 19 जनवरी 2011

मुझे पूर्ण कर दो !!!

तमन्ना ने एक दिन हौसले से कहा – सभी कहते हैं मै अधूरी हूँ , और ये सच भी है । तुम्हारे बिना मै पूर्ण हो ही नही सकती तुम्हारा साथ पा कर ही मेरा अस्तित्व है । मुझे अपना साथ दे कर मुझे पूर्ण बना दो । हौसले ने कहा- नही , तुम मौसम के साथ बदलती रहती हो तुम अगर बदल जाओगी तो मै बिल्कुल  टूट जाऊँगा । तमन्ना ने कहा – मै तुम्हे वचन देती हूँ मै जीवन के किसी भी मोड पर तुम्हारा साथ नही छोडूंगी , मगर तुम भी जीवन के अन्तिम छोर तक मुझे अपना साथ दोगे । मै तुम्हारा जीवन सवांर दूंगी । हर खुशी जो तुम चाहोगे तुम्हारे कदमों में होगी । हौसले ने बढ कर तमन्ना का हाथ थाम लिया । धैर्य की धरा और उम्मीदो के आसमां तले ये एक अद्भुद मिलन हो रहा था और  आशाओं के जुगनू खुशी से सारी धरती को इस तरह प्रकाशित कर रहे थे  कि गगन के तारों को भी अपनी रौशनी फीकी सी मालूम पडने लगी ।

16 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (20/1/2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. तमन्ना और हौसले को गाना चाहिए,हम बने तुब बने इक दूजे के लिये!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सशक्त -मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति
    शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  4. हौसले ने तमन्ना से कहा::किसने किसका साथ दिया राहे फ़ना में..]\

    तुम भी चली चलो जब तक चली चले

    उत्तर देंहटाएं
  5. सच है हौसला ही तम्मनाओं को पूरा करता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. मन को छू गये प्यारे एहसास. बहुत ही भावपूर्ण सुंदर प्रस्तुति.........
    .
    बुलंद हौसले का दूसरा नाम : आभा खेत्रपाल

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth