प्रशंसक

गूगल अनुसरणकर्ता

बुधवार, 26 जनवरी 2011

भारतीय गणतन्त्र का संकल्प

आप सभी को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें । आज देश ने कुछ मामलों में बहुत तरक्की की है , हमारी दुनिया में एक पहचान बनी है , लोग हमे सम्मान की दृष्टि से देखते हैं , किन्तु इसी के साथ हमने (हमारे कुछ भारतीयों) ने इसकी छवि को धूमिल करने के प्रयास भी किये है , आज जब भ्रष्टाचार की बात दुनिया के किसी भी कोने मे होती है तो वहाँ पर अपने देश का नाम भी आ जाता है , जो हमारे लिये बहु्त शर्मनाक बात होनी चाहिये । हमारे शहीदों ने , बापू जी ने , भगत जी ने और भी अविस्मरणीय क्रन्तिकारियों ने कभी भी ऐसे भारत का सपना नही देखा था । हमारे संविधान की परिकल्पना ऐसी नही थी कि जिसमे दोषी लोग आराम से समाज मे घूमें और बेगुनाह सजा भुगतें । शायद आज हमारा देश जिस बुलंदी पर होना चाहिये था नही है , हम सभी अपने देश के , भारत माँ के गुनहगार है । अब भी समय है , हमे सचेत हो जाना चाहिये । जब तक देश का भविष्य उज्जवल नही , किसी भारतीय का भविषय उज्जवल नही हो सकता । आज गणतंत्र दिवस के इस पावन दिवस पर हम सभी को एक संकल्प लेने की आवश्यकता है । इसे सिर्फ चंद पंक्तियां समझ कर ना पढें । जीवन मे अमल करने की भी कोशिश करें। तभी आज के दिवस को मनाने की सार्थकता है

भारतीय गणतन्त्र का संकल्प

" हम भारत के लोग, भारत को एक सम्पूर्ण प्रभुत्व सम्पन्न, समाजवादी, पंथनिरपेक्ष, लोकतंत्रात्मक गणराज्य बनाने के लिए तथा उसके समस्त नागरिकों को :सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक न्याय, विचार, अभिव्यक्ति, विश्वास, धर्म और उपासना की स्वतंत्रता, प्रतिष्ठा और अवसर की समता प्राप्त करने के लिए तथा उन सबमें व्यक्ति की गरिमा और राष्ट्र की एकता और अखण्डता सुनिश्चित करनेवाली बंधुता बढाने के लिए दृढ संकल्प होकर आज तारीख 26 जनवरी २०११  को एतद द्वारा इस संविधान को अंगीकृत, अधिनियमित और आत्मार्पित करते हैं।”

जय हिन्द जय भारत

24 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय अपर्णा त्रिपाठी जी
    नमस्कार !
    गणतंत्र दिवस की सच्ची तस्वीर दिखाई आपने
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाइयाँ !!

    Happy Republic Day.........Jai HIND

    उत्तर देंहटाएं
  2. अपर्णा जी
    संविधान की प्रस्तावना की पंक्तियाँ उद्धरत करके आपने गणतंत्र दिवस के मतलब को सच्चे शब्दों में समझा दिया ...आपका बहुत आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. गणतन्त्र की परिकल्पना के आदर्श महान थे, हम ही ढीले पड़ गये।

    उत्तर देंहटाएं
  4. jab sipahi ka danda aam aadmi ki peeth par padta hai to saari cheejen dhari rah jaati hain..
    happy republic day..

    उत्तर देंहटाएं
  5. सही लिखा .. गणतंत्र दिवस की बधाई और शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप सब को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएं.
    सादर
    ------
    गणतंत्र को नमन करें

    उत्तर देंहटाएं
  7. गणतंत्र दिवस की हार्दिक सुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  8. गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  9. आज का दिन इस संकल्प को याद करने, दुहराने और अमल में लाने के लिए प्रतिबद्ध होने का है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सार्थक..गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  11. गणतंत्र की वास्तबिक संकल्पना से हम दूर हो गए है अच्छा आलेख, बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  12. गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  13. अर्थपूर्ण बात है..... गणतंत्र दिवस की मंगलकामनाएं.....

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सार्थक..गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें|

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपके आलेख से हम सहमत है!
    गणतन्त्र दिवस की 62वीं वर्षगाँठ पर
    आपको बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  16. सार्थक आलेख !

    गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाइयाँ !!

    उत्तर देंहटाएं
  17. बेहतरीन ....विमर्श .
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाइयाँ

    उत्तर देंहटाएं
  18. आपका लेख एवं प्रतिज्ञा सटीक हैं.मैं आपसे सहमत हूँ और आपने देखा भी होगा अपने ब्लाग पर इसी प्रकार सर्वजन हित में लिखता हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  19. कब तक ये रोना धोना होता रहेगा
    "कब तलक टुकडो में बसर जिन्दगी होगी
    अबए बदल जाए हालात तो अच्छा "
    वैसे भद्रे ये संकल्प नहीं संविधान की प्रस्तावना है. मुझे वर्माजी पर कोफ़्त हुई जो प्रस्तावना को संकल्प क़ा नाम देकर उपस्थित लोगो को भ्रमित किया

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत सार्थक लेख !
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई स्वीकारें |

    उत्तर देंहटाएं
  21. अच्छी रचना
    इस बार मेरे ब्लॉग में क्या श्रीनगर में तिरंगा राष्ट्र का अहित कर सकता है

    उत्तर देंहटाएं
  22. क्या कहूँ????
    कुछ कहने को होता हूँ तो मन में कुछ अटकता है
    संसद से सड़क तक का ये भ्रष्टतंत्र खटकता है

    उत्तर देंहटाएं
  23. आलोक कुमार25 जनवरी 2012 को 3:58 am

    गणतंत्र दिवस पर सभी को हार्दिक शुभकामनायें एवं
    सभी गणमान्‍य जनों से अनुरोध करता हु कि आप आपस में सौहार्द बनायें रखे एवं एक दूसरे को सहयोग प्रदान करे.
    आपसी भाई-चारा बनायें रखें जिससे देश को बल मिले एवं देश मजबूत बने , जब हमरा देश मजबुत होगा तो कोई भी हमारे देश पर आंख उठाकर नही देखेंगा।
    हमारा विकास के रास्‍ते पर चलेगा जिससे देश का उन्‍नति होगी और चारोतरफ खुशहाली होगी, हरतरफ अमनचैन रहेगा........जय हिन्‍द ।।। जय भारत।।।

    उत्तर देंहटाएं
  24. गणतंत्र दिवस पर सभी को हार्दिक शुभकामनायें एवं
    सभी गणमान्‍य जनों से अनुरोध करता हु कि आप आपस में सौहार्द बनायें रखे एवं एक दूसरे को सहयोग प्रदान करे.
    आपसी भाई-चारा बनायें रखें जिससे देश को बल मिले एवं देश मजबूत बने , जब हमरा देश मजबुत होगा तो कोई भी हमारे देश पर आंख उठाकर नही देखेंगा।
    हमारा विकास के रास्‍ते पर चलेगा जिससे देश का उन्‍नति होगी और चारोतरफ खुशहाली होगी, हरतरफ अमनचैन रहेगा........जय हिन्‍द ।।। जय भारत।।।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth