प्रशंसक

रविवार, 23 जनवरी 2011

ओढे चूनर…………




नील गगन के तले धरा पर
पीली चादर सरसों की
ओढे चुनरिया मानो बिरहन 
राह निहारे प्रियतम की



सुध बुध खोई ,मगर ना खोई
आस अभी तक मिलने की ।
प्रभु के नाम सी जपती रहती 
माला वो तो  साजन की ॥
सता रही है बनकर बैरन
पवन ये देखो अगहन की
ओढे चूनर …………….

कह के गये थे आ जाओगे
तुम दो चार महीनों में ।
कसम भी ये दे कर गये थे
आँसू ना लाना नयनों में ॥
याद नही आती क्या तुमको
घर आँगन या बगियन की
ओढे चूनर…………


28 टिप्‍पणियां:

  1. इंतजार और प्रेम की सुंदर अभिव्यक्ति.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुध बुध खोई ,मगर ना खोई
    आस अभी तक मिलने की ।
    yah hui na bat ,badhai

    उत्तर देंहटाएं
  3. धूप फागुनी खिली
    बयार बसन्ती चली,
    सरसों के रंग में
    मधुमाती गंध मिली.
    सरसों क़ा रंग ही तो बसंत के पट खोलता है

    उत्तर देंहटाएं
  4. अरे वाह... कागा सब तन खाइओ, चुन चुन खाइयो मांस
    दो नैना मत खाइओ, मोहे पिया मिलन की आस.

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर भावाभिव्यक्ति बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  6. गज़ब गज़ब गज़ब के भाव समेटे हैं…………विरहन के दर्द को मार्मिकता से चित्रित किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. Wow bouth he aacha lagaa aapka post mujhe... thz..

    Pleace visit My Blog Dear Friends...
    Lyrics Mantra
    Music BOl

    उत्तर देंहटाएं
  8. ओह! अत्यंत ही सुन्दर अभिव्यक्ति....आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  9. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 25-01-2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    उत्तर देंहटाएं
  10. इतनी सुन्दर कविता पढ़े बरस हो गये।

    उत्तर देंहटाएं
  11. हमेशा की तरह ये पोस्ट भी बेह्तरीन है
    कुछ लाइने दिल के बडे करीब से गुज़र गई....

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्रेमपरक बहुत सुन्दर गीत है,

    उत्तर देंहटाएं
  13. कह के गये थे आ जाओगे
    तुम दो चार महीनों में ।
    कसम भी ये दे कर गये थे
    ना आँसू लाना नयनों में ॥
    याद नही आती क्या तुमको
    घर आँगन या बगियन की
    विरह को बहुत ही खुबसुरत अंदाज में दिखाया है आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  14. "प्रकृति" ही तो है………मनोभावों को चित्रित करने का सुंदर माध्यम! पंक्तिबद्ध अलंकृत शब्द………………विरह की वेदना……क्या कहने!………उम्दा प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बेहद नाज़ुक भावों में एक लयबद्धता है जो कविता को पढ़ते समय ज़ुबां पर अनायास ही गुनगुना उठती है। एक प्यारी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  16. शेरो-शायरी, गजल, कविता से जल्दी जुड़ नहीं पाता, पता नहीं क्यूं
    पर कभी-कभी इनसे मन को सकून भी मिलता है।

    उत्तर देंहटाएं
  17. अपर्णा जी , भावों से भरी बहुत ही अच्छी कविता .... सुंदर प्रस्तुति.
    बुलंद हौसले का दूसरा नाम : आभा खेत्रपाल

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत ही प्यारी रचना

    नील गगन के तले धरा पर
    पीली चादर सरसों की
    ओढे चूनर मानो बिरहन
    राह निहारे प्रियतम की

    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुन्दर भावों से ओतप्रोत रचना के लिए हार्दिक बधाई स्वीकार करें

    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  20. आप सब को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  21. आप सब को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएं.
    सादर
    ------
    गणतंत्र को नमन करें

    उत्तर देंहटाएं
  22. सुध बुध खोई ,मगर ना खोई
    आस अभी तक मिलने की ।
    प्रभु के नाम सी जपती है
    वो माला अपने साजन की ॥


    अपर्णा जी आपने बहुत सटीक अभिव्यक्त किया है भावों को ..प्रेम के निश्छल भाव को वैसे तो अभिव्यक्त करना बहुत कठिन होता है ,.....परन्तु कवि इसे संभव बना देते हैं ....आपका आभार इस सार्थक रचना के लिए ...शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  23. श्याम का पीताम्बर राधा ने ओढा

    सुन्दरता का द्वार प्रकृति ने खोला

    या राधा स्वयं प्रकृति बन गयी

    श्याम को रास का निमंतन दे रही

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth