प्रशंसक

रविवार, 13 मार्च 2011

इनका भी स्वागत कीजिये


आज आप सभी को दो ऐसे ब्लागर्स से मिलवाने जा रही हूँ जिनको पढने के बाद मुझे यह महसुस हुआ कि इनकी बात आप सभी तक भी पहुँचनी चाहिये । ये दोनो ही अच्छा लिखते हैं । अगर आप सभी का प्यार और स्नेह मिले और इनका भी त्साह वर्धन किया जाय तो इनकी लिखनी में और निखार आ सकता है ।

ब्लॉगर – चक्रेश
स्थान - मेरठ 
ब्लॉग - Someone Somewhere


वैसे तो बहुत दिन हो गए देखे हुए तुम्हें
पर आज कुछ अलग बात हुई जा रही हैं
आँखों मैं आंसू तो नहीं हैं पर
न जाने क्यूँ आज मेरी जान जा रही हैं
बहुत दिनों से तुम्हारी बहुत याद आ रही है

कहने को तो बहुत खुश हूँ मैं पर
न जाने क्यूँ धडकन मचली जा रही है
सब कुछ तो हैं मेरे पास पर
जरूरत तेरी बढ़ती जा रही है
बहुत दिनों से तुम्हारी बहुत याद आ रही है

कहने को तो मैं मुस्कराता हूँ महफिल मैं
पर तन्हाई जिंदगी मैं बढ़ती जा रही हैं
जानता हूँ तू न आयेगी अब कभी पर
तेरे आने की उम्मीद बढ़ती जा रही है
बहुत दिनों से तुम्हारी बहुत याद आ रही है

कहने को तो दोस्त और भी बहुत हैं मेरे पर
ऐ दोस्त तू मेरी जिंदगी होती जा रही है
जानता हूँ तू अब किसी और की है पर
नजदीकियां तुमसे बढ़ती जा रही है
बहुत दिनों से तुम्हारी बहुत याद आ रही है

कहने को तो बहुत लोग आए गए है जिंदगी मैं पर
न जाने क्यूँ तेरी याद जिंदगानी बनती जा रही है
यूँ भी नहीं बहुत उदास हूँ मैं पर
यह कैसी बेरुख फिजा नजर आ रही है
बहुत दिनों से तुम्हारी बहुत याद आ रही है

स्थान - दिल्ली 





जिस पथ पर जाना ना हो, उस पर पग ही क्यों धरें ।
राह जो मंजिल की है, कितनी भी मुश्किल क्यों डरें ॥ 
चलते रहना है हमको, मंजिल जब तक ना मिले ।
 जीवन चाहे मिट जाये,  हौसला फिर भी ना हिले  ॥
हम भटकने वालों में से नहीं,  हमें पता अपनी मंजिल ।  
अब हमारा मन भी यही,  यही है हमारा दिल ॥ 
चाहे कितने भी हों प्रलोभन,  चमक और सुख अनेक । 
चलना बस उसी पर है,  चुनी है जो राह एक ॥ 
क्या हुआ जो सुख ना मिले,  ना मिले अपना कोई । 
चलना सच्चाई की राह पर, था मेरा सपना यही ॥ 
क्यों ना आयें पल पल, कांटे अनेकों सामनें ।
सत्य की शक्ति हमेशा, साथ है मुज्ञको थामनें ॥ 
मिलेगी जब मंजिल मुज्ञे, वह क्षण कितना अनुपम होगा । 
यही सोच कर हर पल, चलना प्रतिक्षण होगा ॥ 


14 टिप्‍पणियां:

  1. di.. bhut acchi kosish hai apki naye blogers ka sabse parichye karane ki....

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच में बहुत अच्छा लिखते हैं....मिलवाने के लिए शुक्रिया...

    उत्तर देंहटाएं
  3. दोनों ही कवितायें बहुत अच्छी हैं। दोनों को ही अपनी फीड में डाल लिया है, आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये परमारथ का कार्य वाकई प्रसंशनीय है
    आप दोनों का स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपका यह प्रयास अच्छा लगा ....चक्रेश जी के ब्लॉग पर टिप्पणी देने की सुविधा नहीं है ...दूसरे ब्लॉग पर रचना काव्य रूप में होती तो सुन्दर लगती ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. अपर्णा जी
    आपका प्रयास सराहनीय है ...हमें एक दुसरे को आगे बढ़ाना चाहिए ....शुक्रिया आपका इस जानकारी के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  7. अर्पना जी बहुत सुन्दर अच्छी प्रस्तुति
    बहुत बहुत शुभ कामना
    दीपांकर कुमार पाण्डेय

    उत्तर देंहटाएं
  8. कवितायें अच्छी हैं........मिलवाने के लिए शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  9. You have done a good job by providing opportunity to CHAKRESH & TAMPESHWAR SAHU.Their efforts are quite good .This way they will definitely feel elevated and will further progress.

    उत्तर देंहटाएं
  10. यादों में मुलाकात का सफ़र वाकई बड़ा सुहाना होता है

    चलो याद ही सही...........सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth