प्रशंसक

गूगल अनुसरणकर्ता

गुरुवार, 17 मार्च 2011

बिन आसूं रोया ये मन



आज बहुत उदास है ये मन

बिन आसूं ही रो रहा ये मन


काँच से नाजुक रिश्तों को

कितना मैने संभाला था

दुनिया की बुरी निगाहों से

उसको मैने बचाया था

मगर लगा उसको तो

किसी अपने का ही ग्रहण

आज बहुत……………..


पल भर मे ही लगा कि जैसे

रानी से भिखारिन हो गये

बिन अपराध किये ही तो

हर नजर के अपराधी हो गये

जीते जी ही कर डाला

उसने मेरे भावों का तर्पण

आज बहुत ……….


फिर भी जीवन निर्मम इतना

सासों को नही है त्याग रहा

जाने क्यों अब भी आखों में

उसके ख्वाबों को पाल रहा

बचा ही क्या है जो कर दे

अब उसके चरनों में अर्पण

आज बहुत…………………..



35 टिप्‍पणियां:

  1. भावपूर्ण मार्मिक अभिव्यक्ति....
    गहन अनुभूतियों का सहज प्रवाह ह्रदय तक पहुँच रहा है |

    उत्तर देंहटाएं
  2. फिर भी जीवन निर्मम इतना
    सासों को नही है त्याग रहा
    जाने क्यों अब भी आखों में
    उसके ख्वाबों को पाल रहा

    Bhavpoon rachna hai...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बचा ही क्या है जो कर दे
    अब उसके चरनों में अर्पन.. bhut hi emotional kavita hai.. very nice...

    उत्तर देंहटाएं
  4. पल भर मे ही लगा कि जैसे
    रानी से भिखारिन हो गये
    बिन अपराध किये ही तो
    हर नजर के अपराधी हो गये
    जीते जी ही कर डाला
    उसने मेरे भावों का तर्पन
    आज बहुत ……….

    फिर भी जीवन निर्मम इतना
    सासों को नही है त्याग रहा
    जाने क्यों अब भी आखों में
    उसके ख्वाबों को पाल रहा
    बचा ही क्या है जो कर दे
    अब उसके चरनों में अर्पन
    आज बहुत………………

    इस के लिए मेरे पास सिर्फ एक ही शब्द है बहुत ही लाजवाब

    उत्तर देंहटाएं
  5. मुझे ये कविता पढने के बाद प्रसाद जी की निम्न पंक्तियाँ याद आयी .

    बस गई एक बस्ती है स्मृतियों की इसी ह्रदय में
    नक्षत्र लोक फैला है , जैसे इन नील निलय में
    जो घनीभूत पीड़ा थी , मस्तक में स्मृति सी छाई
    दुर्दिन में आंसू बनकर वह आज बरसने आयी.

    सुन्दर भावपूर्ण और ह्रदय स्पर्शी कविता .

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप भावों के भारीपन व गहराई से बाहर आयें।

    उत्तर देंहटाएं
  7. अतिभावुक रचना है, उदास कर जाती है रचना।

    शाकाहार जाग्रति में सहायक बनें…

    निरामिष: शाकाहार : दयालु मानसिकता प्रेरक

    उत्तर देंहटाएं
  8. काँच से नाजुक रिश्तों को
    कितना मैने संभाला था
    दुनिया की बुरी निगाहों से
    उसको मैने बचाया था
    मगर लगा उसको तो
    किसी अपने का ही ग्रहन


    बहुत ही बेहतरीन... एक भावपूर्ण रचना के लिए बहुत-बहुत बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  9. आज बहुत उदास है ये मन
    बिन आसूं ही रो रहा ये मन

    काँच से नाजुक रिश्तों को
    कितना मैने संभाला था
    बहुत भावपूर्ण
    ब्लॉग पर अनियमितता होने के कारण सभी से माफ़ी चाहता हूँ ..

    उत्तर देंहटाएं
  10. मगर लगा उसको तो
    किसी अपने का ही ग्रहन
    भावपूर्ण रचना, बहुत-बहुत बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  11. अपर्णा जी....
    बहुत खूब...
    लेकिन ये होली के समय ऐसी बातें....
    चलिए पिचकारी लेकर आईये तो जल्दी से....
    होली है....बुरा न मानो होली है...

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत संवेदनशील और भावपूर्ण अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  13. कविता में दुखानुभूति की सशक्त अभिव्यक्ति हुई है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. फिर भी जीवन निर्मम इतना
    सासों को नही है त्याग रहा
    जाने क्यों अब भी आखों में
    उसके ख्वाबों को पाल रहा

    इन पंक्तियों को पढ़कर में सन्न रह गया ...बहुत दुखद अनुभूति का भावपूर्ण वर्णन किया है आपने ...आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ही बेहतरीन, भावपूर्ण रचना के लिए बहुत-बहुत बधाई.

    होली मंगलमय हो. आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  16. भावपूर्ण मार्मिक अभिव्यक्ति....बहुत-बहुत बधाई.****

    उत्तर देंहटाएं
  17. "फिर भी जीवन निर्मम इतना
    सासों को नही है त्याग रहा
    जाने क्यों अब भी आखों में
    उसके ख्वाबों को पाल रहा"


    बहुत अच्छा लिखा आपने.

    होली की शुभकामनाएं.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  18. आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  19. काँच से नाजुक रिश्तों को

    कितना मैने संभाला था

    दुनिया की बुरी निगाहों से

    उसको मैने बचाया था

    मगर लगा उसको तो

    किसी अपने का ही ग्रहण

    संवेदनशील और भावपूर्ण अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  20. संवेदनशील और भावपूर्ण अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  21. आप को सपरिवार होली की हार्दिक शुभ कामनाएं.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  22. व्यथित भावनाओं की अत्यंत भावपूर्ण प्रस्तुति........

    उत्तर देंहटाएं
  23. घुटते टेंकती भावुकता का, फायदा बहुत उठाया जाता है अपर्णा ....
    शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth