प्रशंसक

गूगल अनुसरणकर्ता

शनिवार, 20 मई 2017

आधुनिक मानवता


ममी रोजी ने देखो आज फिर मेरी फेवरेट डॉल तोड दी कहते हुये रीना किचन में अपनी गोद में रोजी को लेते हुये आयी। रीना की बातों में शिकायत कम प्यार ज्यादा था। रोजी को भी अहसास हुआ उसने कोई नुकसान नही किया बल्कि अपनी शैतानी से रीना को खुश ही किया है  तभी बाहर से कुछ टूटने की आवाज आयी- रीना रोजी के साथ बाहर कमरे की तरफ आयी, जहाँ घर की नौकरानी की तीन वर्षीय लडकी कजरी ने मेज पर रखे ग्लास को तोड दिया था। ओह ममी ये तोड फोड तो अब रोज का ही काम बन गया है, कहते हुये गुस्से में रीना ने एक थप्पड कजरी के कोमल गालों पर दे दिया, ममी आप पता नही क्यों ये सब बर्दाश्त कर लेती हो। फिर नौकरानी की तरफ बढते हुये बोली- तुम जानती हो ये ग्लास का सेट कितने का आया था, ओह तुम कैसे जानोगी, तोडने से तो कीमत पता नही चलती न। ये तुम्हारे एक महीने की तन्ख्वाह से भी महगां है समझी। ऐसा है अब काम करने की कोई जरूरत नही। हमे सफाई के लिये नौकर चाहिये था न कि तोड फोड के लिये।
सहमी एक कोने में खडी कजरी जो कुछ देर पहले अपनी माँ के काम में हाथ बटाने की नीयत से मेज पर रखा ग्लास किचन में रखने जा रही थी, वो भी अपनी बाल बुद्धि से उस ग्लास की कीमत का मूल्य जानने की कोशिश कर रही थी। उधर उसकी रोती बिलखती माँ अपनी रोटी की मिन्नते करती रही फिर कोई आशा न देख अपने सारे दर्द को क्रोध बना कजरी को मारते हुये बोली- अरी करमजली जाने और कइसे कइसे दिन दिखाई दें तेरे कारन और फिर न जाने ऐसा ही क्या क्या कहते और कजरी को मारते हुये घर से चली गयी। 

तभी रोजी रीना की गोद से कब नीचे उतर कर चलने लगी पता ही नही चला, रीना का ध्यान तब गया जब वो टूटे ग्लास के टुकडों की तरफ बढ गयी। लगभग चीखते हुये से रीना बोली- कम रोजी कम हेयर, डोन्ट गो देयर, और रोजी अपने चारों पैरों से वापस रीना की गोद में आ गयी।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth