प्रशंसक

गूगल अनुसरणकर्ता

मंगलवार, 22 अगस्त 2017

उम्र- The Notion of Life


उम्र तो बस उम्र होती है
जितनी भी हो पूरी होती है

चाहे कह लो इसे अच्छी बुरी
चाहे समझो इसे छोटी बडी
इसमें जिन्दगी की उमीद होती है
उम्र तो बस उम्र होती है.......................


कोई काटता है कोई गुजारता है
कोई जीता है कोई संवारता है
सप्तसुरों से सजी सरगम होती है
उम्र तो बस उम्र होती है...........................

कौन माप सका अवधि इसकी
कौन रोक सका गति इसकी
चक्र पूर्ण कर ही नींद में खोती है
उम्र तो बस उम्र होती है........................

कोई जीता है इसे ख्वाबों में
कोई खोता है इसे यादों में
हर किसी की ये पहली प्रीत होती है
उम्र तो बस उम्र होती है.............................

न आधी, न अधूरी होती है
जितनी भी हो पूरी होती है 
उम्र तो बस उम्र होती है.........................

3 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल गुरूवार (24-08-2017) को "नमन तुम्हें हे सिद्धि विनायक" (चर्चा अंक 2706) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. कौन माप सका अवधि इसकी
    कौन रोक सका गति इसकी
    चक्र पूर्ण कर ही नींद में खोती है
    उम्र तो बस उम्र होती है
    ​​सही बात है !! प्रभावी शब्द लिखे हैं आपने अपर्णा जी

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth