प्रशंसक

गूगल अनुसरणकर्ता

शनिवार, 9 सितंबर 2017

चंद अशरार जिन्दगी के नाम


मोहताज हों क्यूं भला किसी की पसंदगी के
जीने के लिये मुझे मेरा मुरीद होना चाहिये

संवरना निखरना नहीं मेरा किसी के लिये
आइने में मुझे सूरत मेरी बोलती चाहिये

जीना औरो के दम मुंकिन नही मेरे लिये
हौसला गिरके उठने का खुदमें मुझे चाहिये

खुशियों के किले बनाये क्यों किसी कांधे पे
मुस्कुराने के लिये बेफिर्की दिल की चाहिये

नही बढाना मुझे कद मेरा चंद ओहदों से
मेरी नजरों में मुझे मेरी अहमियत चाहिये

लोग आते है जाते है ये दस्तूर दुनिया का
शौक सफर का रखते हैं मकां नही चाहिये

बयां हो न सकेगा हाल दिल का लफ्जों से
इश्क के दरिया को सिर्फ शोख लहर चाहिये

न कर सकेंगें एहतराम मोहब्बत का जुगनू
ये वो शय है जिसे पतंगे सा जिगर चाहिये

खुशबू गुलाब की रूह तक भी बस सकती है 

सलीका कांटों को सहेजने का सिर्फ चाहिये

4 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (11-09-2017) को "सूखी मंजुल माला क्यों" (चर्चा अंक 2724) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. काफ़िया नहीं मिल रहा, काफ़िया मिलाने से गजल खुबसुरत हो जाती है, और पढ़ने में तरन्नुम पैदा करती है.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. शफक-ओ-शफ़्फ़ाफ़ सितारे की सरगोशियों तले..,
    तश्ते फलक पे चाँद हो तो फिर ईद होना चाहिए.....

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth