प्रशंसक

गूगल अनुसरणकर्ता

रविवार, 3 अक्तूबर 2010

राष्ट्रकुल खेल २०१०


आज भारत इतिहास के पन्नों पर एक स्वर्णिम अध्याय लिखने की ओर अग्रसर हो रहा है।
पिछले दिनों देश कुछ विषम परिस्थितियों में रहा , पर देशवासियों ने जिस समझदारी का परिचय दिया उसके लिये मैं तहेदिल से हर भारतीय का शुक्रिया अदा करती हूँ । राष्ट्रकूल खेलों को सफल बनाना हम सभी की जिम्मेदारी है ।
मै ईश्वर से प्रार्थना करती हूँ कि वो इस आयोजन को सफल और यादगार बनाने की हम सबको हमारी दुआ कुबूल करें ।
खेल में भाग लेने वाले सभी खिलाडियों को हमारी शुभकामनायें ।

आज कुछ कर दिखाने का फिर से वक्त हाथ में आया है
दुनिया में परचम लहराने का समय फिर से आया है
भारतीय क्या होते है बतलाने का वक्त फिर से आया है
खेल खेल कर विश्वविजयी बनने का समय फिर आया है


ये खुदा प्रार्थना आप हमारी स्वीकार करें
हे ईश्वर दुआयें आप हमारी मंजूर करें
भारत को इक नयी ऊँचाई पर हमें पहुँचाना है
हम करें ऐसा की हर कोई हम पर गुरूर करे ।

2 टिप्‍पणियां:

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth