प्रशंसक

गूगल अनुसरणकर्ता

शुक्रवार, 1 मई 2015

प्रेम गीत


दे सकते है तुम्हे क्या, दिल लेके हम तुम्हारा
आज अपनी तमाम सांसे, तेरे नाम मै करती हूँ
इक बात अब तलक जो, तुमसे भी छुपाई है
कहती हूँ आज सबसे, तुमसे प्यार मै करती हूँ

पायल गहने कंगन मोती, सब झूठे से लगे है
अंखियों में ना रुके है , ये काजल भी अब तो
सोचती रहती हूँ हर पल बस, तेरे ही बारे मे
दर्पन मे तुम्ही तुम नजर आने लगे हो हमको
तेरी बेसब्र मोहब्बत का ही मै सिंगार करती हूँ
कहती हूँ आज सबसे, तुमसे प्यार मै करती हूँ

तुम पर ही जिन्दगी की, हर आस अब टिकी है
ना हो यकी जो हम पर, तो पूँछ लो मौसम से
परवाह नही हमको बेदर्द दुनिया की रस्मों की
मर जायेगे बिन तेरे , हम कहते है ये कसम से
दिन रात शामो सुबह तेरा इन्तजार मै करती हूँ
कहती हूँ आज सबसे, तुमसे प्यार मै करती हूँ

ना जाने क्या देखा, क्या पाया तेरी आंखों मे
फिर दिल ही ना चाहा, देखूँ और कोई सूरत
बरसों से थी तमन्ना इस दिल मे कोई आये
मिल कर लगा तुम्ही हो मेरे प्यार की मूरत
तन मन से तुम्हे अपना, स्वीकार मै करती हूँ
कहती हूँ आज सबसे, तुमसे प्यार मै करती हूँ

आज अपनी तमाम सांसे, तेरे नाम मै करती हूँ
कहती हूँ आज सबसे, तुमसे प्यार मै करती हूँ

9 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (03-05-2015) को "कौन सा और किस का दिवस" (चर्चा अंक-1964) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक
    ---------------

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर व सार्थक प्रस्तुति..
    शुभकामनाएँ।
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रेम के शाश्वत स्वरूप की महीन अनुभूति
    बहुत सुंदर रचना
    बधाई

    आग्रह है मेरे ब्लॉग में भी सम्मलित हों
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. तुम पर ही जिन्दगी की, हर आस अब टिकी है
    ना हो यकी जो हम पर, तो पूँछ लो मौसम से
    परवाह नही हमको बेदर्द दुनिया की रस्मों की
    मर जायेगे बिन तेरे , हम कहते है ये कसम से
    दिन रात शामो सुबह तेरा इन्तजार मै करती हूँ
    कहती हूँ आज सबसे, तुमसे प्यार मै करती हूँ
    सुन्दर गीत अपर्णा जी

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth