प्रशंसक

गूगल अनुसरणकर्ता

मंगलवार, 12 मई 2015

सिर्फ हाथों में हाथ..........


सिर्फ हाथों में हाथ, साथ की कहानी नही
खिलते होठ सदा, खुशी की निशानी नही

कुछ तो बात है, मोहब्बत के समन्दर में
यूं ही सारी दुनिया,  इसकी दीवानी नही

गम से दो चार ना हुये, तो जिन्दगी कैसी
जो खतरों से बच के चले, वो जवानी नही

रूठते हो तो रूठ जाओ, ये अदायें है तेरी
ये इश्क आग का दरिया है, सर्द पानी नही

हाले दिल लबों से कहा, तो तुमने क्या सुना
खामोश धडकनों मे क्या, इश्क की रवानी नही

आरजू मोहब्बत की है, तो सिर्फ दिल की सुनिये
ये अनमोल इनायत है , इसका कोई सानी नही

10 टिप्‍पणियां:

  1. आरजू दिल की अपनी किसी से क्या कहिये

    दिल्लगी करके लोग अफसाना बना देते हैँ

    खूबसूरत अल्फाजोँ से सजी नज्म के लिये बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. हृदयस्पर्शी भावपूर्ण प्रस्तुति.बहुत शानदार भावसंयोजन .आपको बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 14 - 05 - 2015 को चर्चा मंच की चर्चा - 1975 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. भाव और शब्दों का सुन्दर सामंजस्य ,सुन्दर रचना
    हक़–ओ-इन्साफ़

    उत्तर देंहटाएं
  5. लाजवाब शेरोन से सजी ग़ज़ल ... बहुत उम्दा शेर हैं सभी ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. "ये अनमोल इनायत है , इसका कोई सानी नही"
    बहुत खूबसूरत रचना। बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. रूठते हो तो रूठ जाओ, ये अदायें है तेरी
    ये इश्क आग का दरिया है, सर्द पानी नही

    हाले दिल लबों से कहा, तो तुमने क्या सुना
    खामोश धडकनों मे क्या, इश्क की रवानी नही
    सुन्दर ग़ज़ल कही है आपने अपर्णा जी

    उत्तर देंहटाएं
  8. हाले दिल लबों से कहा, तो तुमने क्या सुना
    खामोश धडकनों मे क्या, इश्क की रवानी नही
    ...........सुन्दर ग़ज़ल :)

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth