प्रशंसक

गूगल अनुसरणकर्ता

शुक्रवार, 21 जुलाई 2017

चालीस के पार


सुनो, मेरे पीछे
लापरवाही मत करना
मुझे पता है तुम
मेरा ख्याल रख सकते हो
मगर खुद का
बिल्कुल भी नही
हाँ आजकल भूलने बहुत लगे हो
याद से आ जाना समय पर
वरना तुम्हारे लिये
फिर सबसे झूठ बोलना पडेगा
और सुनने पडेगें जीजियों से ताने
काम तो बस तुम्हारे ही पति करते है
अरे हाँ एक और बात
रख कर जा रही हूँ
तुम्हारी स्टडी टेबल पर
चंद गुलाबी पन्ने
जिसे अब नही रखते तुम
मेज की दराज में
साथ में रख रही हूँ
कुछ गुलाब की पंखुडियां
कि जानती हूँ तुम्हे अब
कैक्टस का शौक है
अच्छा, ढूँढ सको तो ढूंढ लेना
वो रेनौल्ड का पेन
जिसमें अपने नाम की सिल्प
मैने डाल रखी थी
और एक दिन चुपके से
तुमने निकाल ली थी मेरे बस्ते से
आज चालीस पार फिर से मन
सोलह का हो रहा है
कब से आ चुका है जमाना
ई मेल और व्हाट्स अप का
और मन ले जा रहा है
मुझे पुराने दौर में
मुझे पता है बहुत व्यस्त हो तुम
अपने बिजी सेड्यूल में
फिर भी कर देते हो लाइक
मेरे फेसबुक मैसेज
शाम को जब बना रही होती हूँ चाय
तुम भेज रहे होते हो
मुझे जोक्स या मैसेज
फिर तुम चाय पीते हो
और मै करती हूँ रिप्लाई
सुनो, मै नही कहती
एक दिन में पूरा लिखो
थोडा थोडा सा लिखो
ना भेजो कुछ दिन
मुझे मैसेज
ना करो मुझे लाइक
एफ बी या टिव्टर पर
अच्छा पता याद तो है ना
तुम्हे अपनी ससुराल का
कि अब नही मिलेगी तुम्हे अनीता
जिसके हाथ भेज देते थे
खत में छुपा कर ढेर सारा प्यार
फिर से बन जाओ कुछ दिन के लिये
वही मेरे पुराने चन्दर
कि मै फिर से चाहती हूँ
तकिये के नीचे तुम्हे महसूस करना   
चाहती हूँ फिर से
सबसे नजर छुपाकर तुम्हे पढना
कि कबसे नही मिला मुझे
वो मेरा प्रेमी और उसका खत


* चित्र के लिये गूगल का आभार

8 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (23-07-2017) को "शंखनाद करो कृष्ण" (चर्चा अंक 2675) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    उत्तर देंहटाएं
  2. अक्सर चालीस पार का मन सोलह का हो जाता है !

    उत्तर देंहटाएं
  3. आज भी ऐसे खतों का इंतज़ार रहता है ... बहुत सुन्दर .

    उत्तर देंहटाएं
  4. अक्सर हम स्त्रियाँ एक जैसा सोचने लगती हैं चालीस के पार....बहुत खूबसूरती व सादगी से बयाँ किए गए मनोभाव ।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth