प्रशंसक

गूगल अनुसरणकर्ता

रविवार, 23 जुलाई 2017

गिद्धीय नर



स्त्री को भी शायद ना पता हो
अपने उभार और ढलान का माप
मगर गिद्ध पुरुष की दॄष्टि
हमेशा नापती रहती है
अंग प्रत्यगं के बीच की दूरी
उसका क्षेत्रफल
और कभी कभी आयतन
कभी चौराहों पर
कभी कार्यस्थल पर
यहाँ तक की मन्दिर भी
आ जाते है चपेट में
ढके मुंदे तन में भी
ढूंढता रहता है
कोई खिडकी
जहाँ से दे सके उडान
अपनी वासना को
अपनी काम कल्पना में
उड कर भी
तॄप्त नही होती
कामाग्नि
चाहता है किसी भी तरह
उसे बुझाना
नही सोचता
क्या गुजरती है
स्त्री के कोमल हदय पर
जब भेदती है उसे
वक्री निगाहें
नही जानता
अपनी सोच मात्र से ही
हो चुका है पतित
और छल चुका है
अपनी अर्धागिंनी को
दिन भर की नाप जोख के बाद
जब बजाता है
घर की डोर बेल
निर्लाज्जता से
ओढ लेता है
थोडा दम्भ
झूठी थकान
झूठ्मूठ का प्यार
और दिखावटी जिम्मेदारी
क्योंकि
दरवाजे के खुलते ही
कोई कर रहा है इन्तजार
बना दिया है जिसने

उसे पति परमेश्वर

5 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (25-07-2017) को वहीं विद्वान शंका में, हमेशा मार खाते हैं; चर्चामंच 2677 पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन जन्मदिवस : मनोज कुमार और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. खूब शब्दों में ढाला अपने मनोभावों को ......बहुत ही सुंदर

    उत्तर देंहटाएं

आपकी राय , आपके विचार अनमोल हैं
और लेखन को सुधारने के लिये आवश्यक

GreenEarth